लद्दाख में केंद्रीय यूनिवर्सिटी बनाने का प्रस्‍ताव मंजूर, 750 करोड़ रुपए होंगे खर्च

नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार ने लद्दाख में केंद्रीय यूनिवर्सिटी बनाने के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी है। 750 करोड़ रुपये के निवेश से केंद्रशासित प्रदेश में विश्‍वविद्यालय बनेगा। यूनिवर्सिटी का दायरा लेह और करगिल समेत पूरा लद्दाख क्षेत्र होगा। जम्‍मू और कश्‍मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद इन क्षेत्रों को वहां की सेंट्रल यूनिवर्सिटीज से अलग रखा गया था।
केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने मीडिया को बताया कि ठाकुर ने कहा कि यूनिवर्सिटी का पहला चरण चार साल में पूरा कर लिया जाएगा। इसके लिए सेंट्रल यूनिवर्सिटीज ऐक्‍ट, 2009 में संशोधन का विधेयक लाया जाएगा। ठाकुर के मुताबिक, यूनविर्सिटी की स्‍थापना से उच्‍च शिक्षा में क्षेत्रीय असमानता दूर होगी। उन्‍होंने कहा कि यह सेंट्रल यूनिवर्सिटी वहां के अन्‍य शैक्षिक संस्‍थानों के लिए एक मॉडल बनेगी।
इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर के लिए बना कॉर्पोरेशन
लद्दाख में इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर डिवेलपमेंट का काम जोर पकड़ सके, उसके लिए नया कॉर्पोरेशन बनाया गया है। केंद्र ने लद्दाख इंटीग्रेटेड इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर डिवेलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड (LIIDCO) की स्‍थापना को भी हरी झंडी दे दी है। ठाकुर ने कहा कि ‘यह कॉर्पारेशन इंडस्‍ट्रीज, टूरिज्‍म, ट्रांसपोर्ट सेवाओं के विकास को देखेगा।’ इस कॉर्पोरेशन की स्‍थापना कंपनीज ऐक्‍ट के तहत 25 करोड़ रुपये की शेयर कैपिटल से होगी।
स्‍पेशियलिटी स्‍टील के लिए इंसेंटिव स्‍कीम
कैबिनेट ने स्‍पेशियलिटी स्‍टील के लिए प्रोडक्‍शन-लिंक्‍ड इंसेंटिव (PLI) स्‍कीम को भी मंजूरी दी है। सूचना एवं प्रचारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि इसके तहत पांच सालों में 6,322 करोड़ रुपये के इंसेटिव दिए जाएंगे। उन्‍होंने बताया कि इस्‍पात मंत्रालय ने योजना के 5 विस्‍तृत श्रेणियों और 20 उप श्रेणियों की पहचान की है। उन्‍होंने कहा कि स्‍टील उत्‍पादन में 39,625 करोड़ रुपये के निवेश का अनुमान है। हालांकि PLI योजना में 200 करोड़ रुपये प्रति कंपनी की सीमा रहेगी।
-एजेंसियां