रमाकांत के ख‍िलाफ FIR पर कार्यवाही के लिए DGP को पत्र

इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा रमाकांत गोस्वामी की अर्जी खारिज़ होने के पश्चात इम्पीरियल पब्लिक फाउंडेशन के अध्यक्ष रजतनारायण द्वारा उत्तर प्रदेश के नए पुलिस महानिदेशक मुकुल गोयल को पत्र लिख कर SIT द्वारा दर्ज FIR में जल्द से जल्द कार्यवाही करने का आग्रह किया गया है।

पत्र में रजत नारायण ने कहा है कि रमाकांत गोस्वामी के ख़िलाफ़ जितने भी आरोप उन्होंने लगाए थे, वो सभी उप जिलाधिकारी गोवर्धन की जांच में पूर्णतः सत्य पाए गए। इस संबंध में जुलाई 2019 को उप जिलाधिकारी ने जिलाधिकारी मथुरा के सुपुर्द की गई अपनी रिपोर्ट में उल्‍लेख क‍िया था क‍ि जिला न्यायालय द्वारा मंदिर मुकुट मुखारबिंद, मंदिर मानसी गंगा में नियुक्त रिसीवर रमाकांत गोस्वामी के ऊपर गंभीर वित्तीय अनियमि‍तताओं के आरोप सही पाए गए हैं। इसके पश्चात जिलाधिकारी मथुरा ने अपनी जाँच रिपोर्ट जिला न्यायाधीश को प्रेषित कर दी थी परंतु रिसीवर रमाकांत गोस्वामी के ऊपर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

पत्र में यह भी कहा गया है कि‍ SIT को रमाकांत गोस्वामी के ख़िलाफ़ जाँच के आदेश दिनांक 17 मई 2019 को ही गृह विभाग उत्तर प्रदेश से प्राप्त हो गया था तथा SIT ने अपनी जाँच फरवरी 2020 में पूरी भी कर ली थी जिसके पश्चात 11 सितंबर 2020 को गृह विभाग उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आदेश के बाद SIT ने मुख्य आरोपी रमाकांत गोस्वामी तथा 12 अन्य आरोपियों के ख़िलाफ़ गंभीर धाराओं में FIR दर्ज कर लिया था।

उक्‍त संदर्भ को लेकर रजत नारायण ने नए पुलिस महानिदेशक से आग्रह किया है कि SIT द्वारा दर्ज किए गए मुकदमे की अवध‍ि अपना एक वर्ष भी पूरा कर चुकी है परंतु SIT द्वारा अभी तक आरोपियों के ख़िलाफ़ चार्जशीट दाखिल नहीं की गयी है। फर्जी कंपनी बना कर करोड़ों का घोटाला सह‍ित कई अन्‍य घोटाले पहले भी कर चुका मुख्य आरोपी रमाकांत गोस्वामी काफ़ी प्रभावशाली व्यक्ति है, वो बाहर रह कर सबूतों के साथ खिलवाड़ कर सकता है।

श्री नारायण ने इस विषय में पुल‍िस महानिदेशक मुकुल गोयल से आग्रह किया है कि वो SIT को सभी आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर न्यायालय में चार्जशीट दाखिल करने का आदेश दें।
– updarpan.com