अनिवार्य हॉलमार्किंग का स्वागत कर ठगा महसूस कर रहे हैं भारत के सर्राफा व्यवसाई

मथुरा। केंद्र सरकार के द्वारा लागू अनिवार्य हॉलमार्किंग को सर्राफा जगत ने हृदय से स्वीकार किया। सरकार के साथ मीटिंग करके कार्यान्वयन में होने वाली असुविधाओं पर चर्चा की और निवेदन किया कि पुराने स्टॉक को हॉलमार्क करने हेतु यथोचित समय दिया जाए। सरकार ने ३१ अगस्त २०२१ तक की समय सीमा पुराने माल की हॉलमार्किंग हेतु निर्धारित की ।
देश  में केवल 933 हालमार्किंग सेण्टर है जिनकी प्रतिदिन की क्षमता 300 पीस जेवर को हॉलमार्क करने की है।  59390 ज्वेलर्स अभी तक अपना रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं।  कुल 36 कार्य दिवस बाकी हैं , यदि प्रति ज्वेलर आंकलन किया जाए तो मात्र 170 पीस प्रति ज्वेलर ही हॉलमार्क हो पायेगा। ऐसे में सभी चिंतित हैं कि 01 सितम्बर 2021 के बाद क्या वैधानिक रूप से व्यापार संभव हो पायेगा ?
यदि हम निम्नांकित तालिका को देखें जो कुछ प्रमुख शहरों कि स्थिति को दर्शाती है तो अलग अलग शहरों में क्षमता भी अलग अलग है।
कुल रजिस्टर्ड  सर्राफ,     उपलब्ध हॉलमार्क सेण्टर,        सेण्टर की कुल क्षमता,                 प्रति ज्वेलर हॉलमार्क होने वाले पीस
कानपुर- 482                            4                                 43200                                                90
जयपुर-  779                           13                                   140400                                             180
लखनऊ-  743                         9                                    97200                                                  131
मुंबई-   2471                        52                                    561600                                                227
कोलकाता-  1557              44                                    475300                                                  305
इंदौर- 150                          4                                       43200                                                       288
पुणे- 1408                        14                                      151200                                                      107
नागपुर- 348                    2                                          21600                                                       62
दिल्ली-   2381                32                                        345600                                                    145
आगरा- 553                  3                                          32400                                                        58
उपरोक्त तालिका में अंकित आंकड़े 17/07/2021 को सायः 5.00 बजे की वास्तु स्थिति के आंकलन के अनुसार हैं। प्रति कार्य दिवस 300 पीस जेवर से 36 कार्यदिवस को गुड़न करके प्रत्येक ज्वेलर के अधिकतम हॉलमार्क हो पाने वाले जेवर का आंकलन है।
एकतरफ जहाँ व्यापारी अपने स्टॉक को शीघ्रता से हॉलमार्क करा कर कानूनी दायरे में व्यापार करने हेतु तत्पर है| दूसरी तरफ विभाग ने नोटिसों का सिलसिला शुरू कर दिया है जिससे व्यापरियों में असंतोष व्याप्त है।
AIJGF के अध्यक्ष पंकज अरोरा ने पदाधिकारियों की आकस्मिक मीटिंग बुलाई जिसमें गुजरात से चेयरमैन शांति भाई , मथुरा से अमित जैन , दिल्ली से राकेश कुमार , उमेश गर्ग,  सुशिल जैन इंदौर से संतोष सर्राफ, जयपुर से मातादीन सोनी, मुंबई से नितिन केडिया, पटना से अशोक कुमार , कानपूर से मणीन्द्र सोनी ,नागपुर से राजकुमार गुप्ता लखनऊ से मनीष वर्मा व् विनोद माहेश्वरी शामिल हुए।  सभी ने एक स्वर में बी आई ऐस के द्वारा जारी नोटिस की निंदा  की।
अमित जैन के प्रस्ताव पर बोर्ड ने एक स्वर से अनुमोदन किया क‍ि पुराने स्टॉक को हॉलमार्क कराने हेतु समय सीमा को कम से कम 1 वर्ष तक बढ़ाने हेतु हर स्तर पर प्रयास किया जाए। HUID को कम से कम एक वर्ष के लिए स्थगित किया जाये क्योंकि इसकी  वजह से हॉलमार्किंग प्रक्रिया धीमी हुई है।
– updarpan.com