जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर एकबार फिर मंडराते दिखे ड्रोन

जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर CDS जनरल विपिन रावत के दौरे के कुछ घंटों बाद ही एक बार फिर ड्रोन मंडराने की घटना हुई है। बुधवार शाम सीडीएस रावत एयरफोर्स स्टेशन में सुरक्षा समीक्षा के लिए पहुंचे थे। इस स्टेशन पर 27 जून को एक ड्रोन अटैक हुआ था, जिसके बाद स्थितियों का जायजा लेने सीडीएस यहां आए थे। जम्मू में सीडीएस की मौजूदगी के बीच ही एयरफोर्स स्टेशन के ऊपर एक बार फिर ड्रोन देखे गए, जिसके बाद शहर में अलर्ट जारी कर दिया गया है।
शुरुआती इनपुट्स के मुताबिक जम्मू के सतवारी इलाके में स्थित एयरफोर्स स्टेशन पर देर रात ड्रोन दिखाई दिए थे। सुरक्षा एजेंसियां इस मामले की जांच में जुट गई हैं। गुरुवार को ये खबर ऐसे वक्त में सामने आई है, जब जम्मू में सीडीएस विपिन रावत सुरक्षा एजेंसियों और सेना के अफसरों के साथ डिफेंस इंस्टीट्यूशंस की सुरक्षा को लेकर बैठक करने वाले हैं। इससे पहले बुधवार-गुरुवार रात को जम्मू संभाग में स्थित अरनिया की सीमा पर भी ड्रोन्स की मूवमेंट दिखाई दी थी।
27 जून को हुआ था इसी स्टेशन पर अटैक
बता दें कि जम्मू के जिस एयरफोर्स स्टेशन के ऊपर ये ड्रोन दिखे हैं, वहां 27 जून को ड्रोन से ही एक हमला हुआ था। इस हमले में एक इमारत की छत को नुकसान हुआ था। इसके अलावा एक विस्फोटक खुले इलाके में गिरा था। एनआईए की शुरुआती जांच में ये बात सामने आई थी कि आसमान से विस्फोटक गिराने वाले ड्रोन्स के निशाने पर मिलिट्री और एयरफोर्स के चॉपर थे।
ड्रोन के खतरों को देखकर एजेंसियां सतर्क
इस घटना के कुछ दिन बाद जम्मू के कालूचक और रत्नूचक इलाकों के भी सैन्य कैपों के ऊपर ड्रोन देखे गए थे। इसके अलावा सीमा से सटे कुछ हिस्सों में भी ड्रोन की मूवमेंट देखी गई थी। जम्मू-कश्मीर के मिलिट्री स्टेशंस के ऊपर इस तरह के ड्रोन्स को देखे जाने के बाद सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह से अलर्ट पर हैं। इसके अलावा केंद्रीय गृह मंत्रालय के अफसर भी लगातार ड्रोन्स के खतरों से निपटने के लिए रणनीति बनाने पर काम कर रहे हैं।
-एजेंसियां