ओलंपिक जाने वाले भारतीय दल से पीएम मोदी बोले: अपेक्षाओं के बोझ तले दबने की जरूरत नहीं, पूरा देश आपके साथ खड़ा है

प्रधानमंत्री मोदी नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये ओलंपिक जाने वाले भारतीय दल से बातचीत की। इसमें दीपिका कुमारी, प्रवीण जाधव, सानिया मिर्जा, पीवी सिंधु, नीरज चोपड़ा, दुती चंद, आशीष कुमार, मेरी कॉम, मनिका बत्रा, विनेश फोगाट, साजन प्रकाश और मनप्रीत सिंह समेत 15 खिलाड़ी शामिल हुए।
कार्यक्रम के दौरान PM मोदी ने बैडमिंटन प्लेयर पीवी सिंधु से कहा कि ओलिंपिक से अच्छा परफॉर्म करके लौटने पर हम साथ में आइसक्रीम खाएंगे। सिंधु 2016 रियो ओलिंपिक में सिल्वर मेडल जीत चुकी हैं। उनसे इस बार काफी उम्मीदें हैं।
PM ने कहा कि किसी भी एथलीट को अपेक्षाओं के बोझ तले दबने की जरूरत नहीं है। पूरा भारत आपके साथ खड़ा है। आप सभी एथलीट निर्भीक होकर खेलें। जापान में अपना हुनर दिखाएं। सभी खिलाड़ियों को मेरी शुभकामनाएं। प्रधानमंत्री के साथ कार्यक्रम में खेल मंत्री अनुराग ठाकुर, किरन रिजिजू और स्पोर्ट्स सेक्रेटरी रवि मित्तल भी मौजूद रहे।
तीरंदाज दीपिका कुमारी
PM मोदी ने सबसे पहले तीरंदाज दीपिका कुमारी से बातचीत की। दीपिका ने PM से कहा कि मैंने बांस के धनुष से शुरूआत किया था। बाद में आधुनिक धनुष को अपनाया। सबसे ज्यादा उम्मीदें खुद से होती हैं। ओलिंपिक में कैसे परफॉर्म करना है मेरा पूरा फोकस इसी पर है।
तीरंदाज प्रवीण कुमार जाधव
तीरंदाज प्रवीण कुमार जाधव ने PM मोदी को बताया कि पहले मैं एथलेटिक्स करता था। मेरा सलेक्शन गवर्नमेंट अकेडमी में हुआ। बाद में अमरावती चला गया। उसके बाद मैं तीरंदाजी करने लगा। मुझे पता था कि मुझे मजदूरी ही करनी पड़ेगी, इसलिए मैंने खेल में करियर बनाने का सोचा और तीरंदाजी जारी रखा। जब भी किसी मुश्किल में पड़ता था तो अपना बैकग्राउंड याद करके खुद को मोटिवेट करता था।
जैवलीन थ्रोअर नीरज चोपड़ा
नीरज चोपड़ा ने कहा कि मुझे इंडियन आर्मी पसंद है। जैवलिन में बेहतर प्रदर्शन करने पर भारतीय सेना में नियुक्ति मिली। सेना की ओर से मुझे लगातार सपोर्ट मिल रहा है। मुझे कुछ दिनों पहले इंजरी हुई थी। इंजरी स्पोर्ट्स का हिस्सा है। इंजरी की वजह से मैं वर्ल्ड चैंपियनशिप में नहीं जा पाया। मेरा एक साल खराब हो गया। हालांकि मैंने मेहनत की और वापसी की। मेहनत से मैंने ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई किया।
एथलीट दुती चंद
दुती चंद ने कहा कि मेरी बड़ी फैमिली थी। खाने-पीने की कमी थी। मैं जानती थी कि अगर मैं स्पोर्ट्स करूंगी, तो मुझे जॉब मिल जाएगा और मेरी फैमिली की आर्थिक स्थिति सुधर जाएगी। मेरे लाइफ में हमेशा से कॉन्ट्रोवर्सी रही है। पर मेरा लक्ष्य हमेशा से ओलिंपिक मेडल रहा है। मैं दूसरी बार ओलिंपिक में भाग ले रही हूं और मेडल जीतने के लिए अपना 100% दूंगी।
बॉक्सर आशीष कुमार
आशीष ने कहा कि मेरे घर में खेल का माहौल रहा है। मेरे पापा कबड्‌डी खिलाड़ी रहे। मैं पहले काफी पतला था इसलिए मैंने बॉक्सिंग का चयन किया। मेरे ओलिंपिक क्वालिफायर कॉम्पिटीशन से 25 दिन पहले मेरे पिता का देहांत हो गया था। इस दौरान मेरे परिवार के अन्य सदस्यों ने सपोर्ट किया।
परिवार ने कहा कि पापा के सपने को पूरा करने के लिए मैं ओलिंपिक में जाऊं। मैं स्पेन में कोरोना पॉजिटिव हो गया था। रिकवरी में मुझे एक महीना लगा। भारत वापस आने के बाद कोचिंग स्टाफ ने पूरा सपोर्ट किया। अब मैं ओलिंपिक के लिए तैयार हूं।
बॉक्सर मेरी कॉम
मेरी कॉम ने कहा कि मेरे घर पर मेरे बच्चे मुझे मिस करते हैं। मैं उनको समझाती हूं कि मैं देश के लिए खेलने जा रही हूं। आपको पापा की बात माननी है और उनको फॉलो करना है। बच्चे ऑनलाइन क्लास की वजह से बोर हो रहे हैं। मैं बच्चों को समझाती हूं कि आप घर में रहें और सुरक्षित रहें। हुक मेरा सबसे फेवरेट पंच है। बॉक्सिंग में मेरे हीरो मोहम्मद अली हैं।
शटलर पीवी सिंधु
सिंधु ने बताया कि इस बार उनकी ओलिंपिक को लेकर अच्छी तैयारी है। PM ने सिंधु के अलावा उनके माता-पिता से भी बातचीत की। उन्होंने बताया कि सभी पैरेंट्स को यह पता होना चाहिए कि वे अपने बच्चे का ध्यान किस प्रकार रख सकते हैं। अगर एथलीट स्वस्थ रहेगा तो निश्चित तौर पर आगे बढ़ सकेगा।
17 जुलाई को भारत का पहला जत्था रवाना होगा
भारत से 17 जुलाई को खिलाड़ियों का पहला जत्था टोक्यो रवाना होगा। 23 जुलाई से ओलिंपिक की शुरुआत हो रही है। भारत की ओर से इस साल 126 खिलाड़ियों का दल ओलंपिक में जा रहा है। ओलंपिक में भारत से भेजे जाने वाला यह अब तक का सबसे बड़ा दल है। भारतीय एथलीट्स 18 खेलों के 69 इवेंट्स में हिस्सा लेंगे।
PM ने हाल ही में ओलिंपिक के लिए खिलाड़ियों को दी जा रही सुविधाओं और तैयारियों का भी जायजा लिया था। उन्होंने रेडियो कार्यक्रम मन की बात के जरिए एथलीट्स का प्रोत्साहन भी बढ़ाया था। साथ ही देश के लोगों से भारतीय एथलीट्स को पूरे दिल से सपोर्ट करने की भी अपील की थी।
रियो ओलिंपिक (2016) में देश से 117 खिलाड़ियों ने शिरकत की थी। इस बार भारत के 122 खिलाड़ियों में से 30 हरियाणा से हैं, यानी 24%। हरियाणा की आबादी 2.54 करोड़ (2011 की जनगणना के मुताबिक) है। यानी देश की आबादी में महज 1.87% हिस्सेदारी रखने वाले राज्य की भारतीय दल में करीब एक चौथाई उपस्थिति है।
54% खिलाड़ी उत्तर भारत से
ओलिंपिक में हिस्सा लेने जा रहे भारतीय खिलाड़ियों को जोन के हिसाब से बांटें तो दल में सबसे बड़ी हिस्सेदारी उत्तर भारत की है। उत्तर भारत से 66 खिलाड़ी (54.10%) टोक्यो जा रहे हैं। इनमें हरियाणा के बाद सबसे बड़ी हिस्सेदारी पंजाब (16 खिलाड़ी) की है। भारतीय दल में दक्षिण भारत से 27 (22.14%), मध्य भारत से 2 (1.64%), पूर्वी भारत से 10 (8.2%), उत्तर पूर्व से 8 (6.55%) और पश्चिम भारत से 9 खिलाड़ी (7.37%) शामिल हैं।
कुश्ती में सभी 7 खिलाड़ी हरियाणा से
हरियाणा का दबदबा कुश्ती और बॉक्सिंग जैसे कॉन्बैट स्पोर्ट्स में है। कुश्ती में सभी 7 खिलाड़ी (4 महिला, 3 पुरुष) हरियाणा से हैं। बॉक्सिंग में 9 में से 4 बॉक्सर हरियाणा से हैं। शूटिंग में 15 में से 5 शूटर्स हरियाणा से हैं। इनके अलावा हरियाणा से एथलेटिक्स में 4 (26 में से), हॉकी में 10 (पुरुष-महिला मिलाकर 34 खिलाड़ियों में से) खिलाड़ी इस राज्य से हैं।
7 राज्यों से एक भी खिलाड़ी नहीं
भारत के सात राज्य ऐसे हैं जहां से 1 भी खिलाड़ी भारतीय ओलिंपिक दल का हिस्सा नहीं है। 10 करोड़ की आबादी वाला बिहार इसमें सबसे बड़ा राज्य है। बिहार के अलावा छत्तीसगढ़, गोवा, मेघालय, नगालैंड और त्रिपुरा से भी कोई खिलाड़ी ओलिंपिक में हिस्सा लेने नहीं जा रहा है।
-एजेंसियां