रैना ने विराट की कप्‍तानी पर कहा, उन्‍होंने तो अब तक कोई IPL भी नहीं जीता पर…

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप WTC में न्यूजीलैंड के हाथों मिली हार के बाद से विराट कोहली की कप्तानी पर सवाल उठने लगे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि कोहली को अब कप्तानी छोड़ देनी चाहिए लेकिन कुछ लोग यह भी मानते हैं कि कोहली भारत के सबसे सफल कप्तान हैं और उन्हें इस पद पर बने रहना चाहिए।
पूर्व भारतीय बल्लेबाज सुरेश रैना ने विराट कोहली की कप्तानी को लेकर अपनी राय रखी है। रैना का मानना है कि विराट को अभी और वक्त दिया जाना चाहिए।
भारतीय टीम कोहली की कप्तानी में तीन बार आईसीसी ट्रॉफी जीतने से महरूम रह गई है। टीम को 2017 की चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पाकिस्तान के हाथों हार मिली। इसके बाद 2019 के वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में उसे न्यूजीलैंड ने हराया। इसके अलावा हाल ही में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में भी टीम को हार का सामना करना पड़ा।
अब लगातार तीन साल वर्ल्ड कप हैं और रैना को उम्मीद है कि कोहली एंड कंपनी कम से कम एक आईसीसी ट्रॉफी पर जरूर कब्जा करेगी।
रैना ने समाचार चैनल न्यूज़ 24 से कहा, ‘मुझे लगता है कि वह नंबर वन कप्तान हैं। उनके रेकॉर्ड साबित करते हैं उन्होंने काफी कुछ हासिल किया है। मुझे लगता है कि वह दुनिया के नंबर वन बल्लेबाज हैं। आप आईसीसी ट्रॉफी की बात कर रहे हैं लेकिन उन्होंने अभी तक आईपीएल भी नहीं जीता है। मुझे लगता है कि उन्हें अभी और वक्त दिए जाने की जरूरत है। एक के बाद एक तीन वर्ल्ड कप होने हैं- दो टी20 वर्ल्ड कप और फिर एक 50 ओवर का वर्ल्ड कप। फाइनल में पहुंचना भी आसान नहीं होता। कई बार आप कुछ चीजें मिस कर जाते हो।’
इसके अलावा रैना ने कहा कि भारतीय टीम वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में परिस्थितियों के चलते नहीं हारा बल्कि इसकी वजह बल्लेबाजों का प्रदर्शन नहीं कर पाना रहा। मैच में दो दिन बारिश रही लेकिन इसके बावजूद रिजर्व डे पर न्यूजीलैंड की टीम ने मैच अपने नाम कर लिया।
भारतीय टीम को मैच बचाने के लिए दो सेशन बल्लेबाजी करने की जरूरत थी लेकिन टीम अपनी दूसरी पारी में 170 पर ऑल आउट हो गई और न्यूजीलैंड ने जीत के लिए जरूरी 139 रन आसानी से हासिल कर लिए। रैना ने इसी बात का जिक्र करते हुए कहा कि टीम के सीनियर बल्लेबाजों को अधिक जिम्मेदारी लेकर खेलना चाहिए था।
उन्होंने कहा, ‘WTC फाइनल इस तरह का उदाहरण है। लोगों का कहना है कि यह परिस्थितियों के कारण है लेकिन मुझे लगता है कि यह बल्लेबाजी की कमी थी। बड़े बल्लेबाजों को साझेदारी बनानी होगी और जिम्मेदारी लेनी होगी।’
-एजेंसियां