अयोध्या के संतों समेत इकबाल अंसारी ने किया नई जनसंख्‍या नीति का स्‍वागत

अयोध्या। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने जनसंख्या नियंत्रण को लेकर ड्राफ्ट तैयार किया है। इसका अयोध्या के संतों और बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने स्वागत किया है। जनसंख्या नियंत्रण के योगी सरकार के इस प्रस्ताव में राज्य विधि आयोग ने सिफारिश की है। इसके तहत एक बच्चे की नीति अपनाने वाले माता-पिता को जहां कई तरह की सुविधाएं दी जाएंगी वहीं 2 से अधिक बच्चों के माता-पिता को सरकारी नौकरी से वंचित रखा जा सकता है। इतना ही नहीं, उन्हें स्थानीय निकाय चुनाव से लड़ने से रोकने समेत कई तरह के प्रतिबंध लगाने की सिफारिश प्रस्ताव में की गई है।
संतों ने किया स्वागत
अयोध्या हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि राज्य विधि आयोग ने जो मसौदा तैयार किया है, वह स्वागत योग्य है। प्रदेश जनसंख्या विस्फोट की तरफ बढ़ रहा है। इसको कंट्रोल करने की सरकार की जो रूपरेखा तैयार हुई है, वह स्वागतयोग्य है। 2 बच्चों से अधिक वाले चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। 2 बच्चों से ज्यादा वाले लोगों को सरकारी नौकरी से वंचित रखा जाएगा। सरकारी लाभ नहीं ले सकेंगे। सरकार की यह योजना सराहनीय है। इसका हम सभी लोग समर्थन करते हैं।
हनुमानगढ़ी के अखिल भारतीय निर्वाणी अनी अखाड़ा के महामंत्री गौरी शंकर दास ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने जनसंख्या कानून की तरफ काम करके बहुत ही सराहनीय कार्य किया है। प्रदेश में इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। पात्र लोगों को नौकरियों का लाभ मिल सकेगा। जो कई विवाह करने के पश्चात 10-10 बच्चे पैदा कर रहे हैं, उस पर लगाम लगेगी। पात्र लाभार्थियों को जो लाभ नहीं मिल पा रहा है, उस पर भी लगाम लगेगी। इस कानून से पात्र लोगों को इसका लाभ मिलेगा।
इक़बाल अंसारी ने किया स्वागत
बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने भी योगी सरकार के जनसंख्या नियंत्रण कानून की पहल का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान में कानून सबके लिए होना चाहिए। हर धर्म और संप्रदाय के लिए एक ही कानून होना चाहिए। जनसंख्या नियंत्रण पर सरकार कानून बनाती है तो वह अच्छी बात है। सरकार की इस पहल का हम स्वागत करते हैं। मुस्लिम समाज इस कानून का विरोध नहीं करेगा। कानून जो भी बनेगा उसका सब हिंदू-मुस्लिम-सिख-इसाई पालन करेंगे।
-एजेंसियां