उन्नाव: पत्रकार को पीटने वाले IAS पर लटकी कार्यवाही की तलवार

लखनऊ। यूपी के उन्नाव जिले में CDO दिव्यांशु पटेल पर कार्यवाही की तलवार लटक रही है। सीडीओ पटेल पर आरोप है कि ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान एक टीवी पत्रकार को उन्होंने पीटा। यही नहीं, इस दौरान पत्रकार का फोन तोड़ते हुए उनका वीडियो कैमरे में कैद हो गया था। उन्नाव में मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) के रूप में तैनात IAS दिव्यांशु पटेल पर टेलीविजन रिपोर्टर कृष्णा तिवारी पर हमला करने का आरोप है।
पीड़ित पत्रकार तिवारी का आरोप है कि अधिकारी बीडीसी सदस्यों को मतदान से रोकने के लिए अपहरण में मदद कर रहे थे। तिवारी ने घटना को फिल्माया भी है। इस हमले का वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा है। सीडीओ के रवैए की चौतरफा निंदा हो रही है। इस बीच उन्नाव के जिलाधिकारी रवींद्र कुमार ने मीडिया से कहा, ‘हमने सभी पत्रकारों से बात की है। जिस पत्रकार पर हमला किया गया था, उसकी लिखित शिकायत हमें मिली है। मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि मामले में उचित कार्यवाही की जाएगी।’
लखनऊ में वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि जिलाधिकारी को शनिवार की घटना पर अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपने को कहा गया है, जिसके बाद कार्यवाही की जाएगी। एक अधिकारी ने कहा, ‘किसी भी मामले में घटना की वीडियो क्लिप सब कुछ कहती है। एक अधिकारी के पास पत्रकार को मारने का कोई काम नहीं है। लेकिन हम रिपोर्ट और अधिकारी के बयान का भी इंतजार करेंगे।’
इस बीच आरोपी अधिकारी दिव्यांशु पटेल ने अभी तक इस घटना पर कोई टिप्पणी नहीं की है। यह घटना शनिवार को उस समय हुई जब उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के लिए मतदान हो रहा था। कई जिलों से झड़प और हिंसा की जानकारी मिली है।
इस बीच इटावा में पुलिस अधीक्षक (नगर) प्रशांत कुमार का एक कथित वीडियो भी वायरल हो रहा है। इस वीडियो में वह कह रहे हैं, ‘ये लोग ईंट-पत्थर फेंक रहे हैं साहब। उन्होंने मुझे थप्पड़ तक मारा। उनके पास बम है, ये लोग बीजेपी के एमएलए और जिला प्रमुख हैं।’
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) इटावा ब्रजेश कुमार सिंह ने मीडिया से कहा, ‘जब भीड़ को मतदान केंद्र के पास आने से रोकने के लिए कहा गया तो उसने पथराव और गोलीबारी शुरू कर दी। हमारे पास सभी सीसीटीवी फुटेज हैं। हम एक बार जांच करेंगे। चुनाव खत्म हो गया है। जल्द ही मामला दर्ज किया जाएगा।’
-एजेंसियां