अमेरिका के 36 राज्यों और वॉशिंगटन डीसी ने गूगल के खिलाफ मुकद्दमे दर्ज कराए

अमेरिका की दिग्गज टेक कंपनी गूगल Google की मुश्किलें बढ़ गई हैं। अमेरिका के 36 राज्यों और वॉशिंगटन डीसी ने गूगल के खिलाफ मुकद्दमा कर आरोप लगाया है कि सर्च इंजन कंपनी द्वारा अपने एंड्रॉइड ऐप स्टोर पर कंट्रोल एकाधिकार विरोधी कानूनों का उल्लंघन है।
मुकद्दमे में आरोप लगाया गया है कि गूगल प्ले स्टोर में कुछ खास अनुबंधों और अन्य प्रतिस्पर्धा विरोधी आचरण के जरिए गूगल ने एंड्रॉइड उपकरण उपयोगकर्ताओं को मजबूत प्रतिस्पर्धा से वंचित कर दिया है।
इसमें आगे कहा गया कि प्रतिस्पर्धा बढ़ने से यूजर्स को अधिक विकल्प मिल सकते हैं और इनोवेशन को बढ़ावा मिलेगा जबकि मोबाइल ऐप की कीमतों में भी कमी आ सकती है। न्यूयॉर्क के अटॉर्नी जनरल जेम्स और उनके साथियों ने गूगल पर यह आरोप भी लगाया कि ऐप डेवलपर को अपनी डिजिटल सामग्री को गूगल प्ले स्टोर के माध्यम से बेचने के लिए मजबूर किया जाता है और इसके लिए गूगल को अनिश्चित काल के लिए 30 प्रतिशत तक कमीशन देना पड़ता है।
वर्चस्व का गलत इस्तेमाल
जेम्स ने आरोप लगाया, ‘गूगल ने कई वर्षों तक इंटरनेट के गेटकीपर के रूप में काम किया है लेकिन हाल ही में यह हमारे डिजिटल उपकरणों का गेटकीपर भी बन गया है जिसके चलते हम उन सभी उस सॉफ्टवेयर के लिए अधिक भुगतान कर रहे हैं, जिसका हम हर दिन उपयोग करते हैं।’
उन्होंने कहा कि गूगल अपने वर्चस्व का इस्तेमाल करने प्रतिस्पर्द्धा को गलत तरीके से खत्म कर रही है और अरबों डॉलर का प्रॉफिट बना रही है।
-एजेंसियां