कपिलदेव का सनसनीखेज बयान, टैलेंटेड खिलाड़ी नहीं थे रवि शास्‍त्री

भारत को पहला विश्व चैंपियन बनाने वाले कप्तान कपिल देव अपने खरे बयानों के लिए जाने जाते हैं। अब एक ऐसा ही बयान पाजी ने भारत के मुख्य कोच रवि शास्त्री के लिए दे दिया है, जो इस वक्त चर्चा में बना हुआ है। उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा है कि रवि शास्त्री के पास टैलेंट नहीं था, और ये बात वह उनके मुंह पर भी बोलते रहे हैं।
कपिल देव जब टीम इंडिया के कप्तान हुआ करते थे, तब शास्त्री भी टीम का हिस्सा थे। तो ऐसे में वह एक-दूसरे के बारे में बेहतर तरीके से सब कुछ जानते हैं। विश्व कप विजेता कप्तान ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “अगर रवि 30 ओवर खेलकर सिर्फ 10 रन भी बनाते हैं, तो कोई बात नहीं है क्योंकि आपका 30 ओवर खेलना बहुत अच्छा है, क्योंकि आखिर में जब गेंद सॉफ्ट हो जाती है तो हम किसी भी तेज गेंदबाज के सामने शॉट खेल सकते हैं।”
“मैं ये बात रवि शास्त्री के मुंह पर भी कहता रहा हूं, मुझे नहीं लगता कि तुम्हारे पास टैलेंट था। वह बेस्ट एथलीट में से एक नहीं था। एक और उदाहरण अनिल कुंबले का भी है। वह एक एथलीट नहीं था, लेकिन जब आप उनके प्रदर्शन देखते हैं, तो जो उन्होंने किया वो किसी ने नहीं किया।”
यदि आंकड़ों पर गौर करे तो अनिल कुंबले भारत के लिए टेस्ट में सबसे अधिक विकेट चटकाने वाले गेंदबाज रहे हैं। दूसरी ओर शास्त्री भारत के नामी ऑलराउंर रहे, जिन्होंने भारत के लिए 6 हजार से ज्यादा अंतर्राष्ट्रीय रन व 280 विकेट चटकाए हैं।
शास्त्री 2017 से भारतीय टीम के मुख्य कोच के रूप में कार्यरत हैं। उनकी कप्तानी में भारत ने 2019 विश्व कप सेमीफाइनल और 2021 में विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल खेला है। मुख्य कोच के रूप में शास्त्री का कार्यकाल टी20 विश्व कप तक का है, लेकिन कहना उचित होगा की कोच के कॉन्ट्रेक्ट को आगे बढ़ाया जाएगा।
-एजेंसियां