धर्मांतरण मामले में हर रोज नया खुलासा, अब कोड वर्ड के इस्‍तेमाल का पता लगा

यूपी में बड़े पैमाने पर चल रहे धर्मांतरण रैकेट के भंडाफोड़ के बाद हर रोज चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। धर्मांतरण रैकेट में 7 तरह के कोड वर्ड का इस्तेमाल किया जा रहा था। इन सभी को डिकोड करके इनके मतलब निकाले गए हैं। हालांकि एक कोड ‘कौम का कलंक’ को अभी तक डिकोड नहीं किया जा सका है। यूपी के अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी ने एक न्यूज़ चैनल से बातचीत में कोड वर्ड और इनके मतलब बताए।
कोड—————- अर्थ
रिवर्ट बैक टु इस्लाम प्रोग्राम—धर्म परिवर्तन करना
मुतक्की————–हक और सच की तलाश
रहमत—————विदेश से आना वाला फंड
सलात—————नमाज
अल्लाह के बंदे———-सोशल पर विडियो लाइव कराने वाले शख्स
मोबाइल नंबर, जन्मतिथि—-धर्म परिवर्तन का नाम
कोड कौम का कलंक को अभी तक डिकोड नहीं किया सका है
अवैध धर्मांतरण के लिए एक करोड़ से ज्यादा रुपये
धर्मांतरण रैकेट चलाने के आरोप में गिरफ्तार हुए उमर और जहांगीर से पूछताछ में पता चला है इस्लामिक दावाह सेंटर में देश और विदेश से एक करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम हवाला के जरिए आई है।
पड़ताल में सामने आया है कि उमर ने अपने निजी, परिवारीजनों और फातिमा चैरिटेबल ट्रस्ट के बैंक खातों में विदेश से रकम ट्रांसफर करवाई थी। वर्तमान में इस्लामिक दवाह सेंटर के बैंक खाते से 50 लाख रुपये बरामद हुए हैं। एडीजी एलओ प्रशांत कुमार ने बताया कि असम की संस्था मारकाजुल मारिफ से भी उमर को बड़ी रकम मिली है। एडीजी के मुताबिक इस्लामिक दावा सेंटर के खाते में एक करोड़ रुपये से ज्यादा ट्रांजैक्शन किया गया है।
कतर, दुबई, आबूधाबी से आया पैसा
ज्यादातर रकम हवाला के जरिए आई है। कतर, दुबई, अबुधाबी से इस्लामिक दावाह सेंटर के खातों में कई ट्रांजेक्शन हुए हैं। एडीजी ने बताया कि धर्मांतरण से जुड़े जो भी दस्तावेज इन पांचों के यहां से मिले हैं उनका सत्यापन कराया जा रहा है। अलीगढ़, नोएडा, गाज़ियाबाद, बनारस,सहारनपुर समेत प्रदेश के 27 जिलों के पुलिस कप्तानों को पत्र लिखा गया है। इन शहरों में धर्म परिवर्तन करवा चुके लोगों का सत्यापन कराया जा रहा है।
1000 लोगों का कराया जबरन धर्मांतरण
यूपी एटीएस ने पिछले दिनों अवैध धर्मांतरण गैंग का पर्दाफाश किया था। इस गैंग पर करीब 1000 लोगों के जबरन धर्मांतरण का आरोप है। गैंग के दो मुख्य आरोपी उमर और जहांगीर गिरफ्तार किए जा चुके हैं। ये इस्लामिक दावाह सेंटर नाम की संस्था का संचालन करते थे जो महिलाओं और मूक बधिर बच्चों का धर्मांतरण कराते थे।
-एजेंसियां