के.डी. हॉस्पिटल से तीन दिन में 24 कोरोना मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे

मथुरा। के.डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर से लगातार तीन दिनों में कोरोना संक्रमितों को स्वस्थ होने के बाद उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया। पूरी तरह से स्वस्थ होकर अपने-अपने घरों को लौटे लोगों ने उन्हें नया जीवन मिलने पर के.डी. हॉस्पिटल के डाक्टर्स, नर्सेज और पैरामेडिकल स्टाफ का आभार मानते हुए यहां की शानदार व्यवस्थाओं की मुक्तकंठ से सराहना की।

आर.के. एज्यूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल, उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल, मैनेजिंग डायरेक्टर मनोज अग्रवाल ने कोराना की इस लड़ाई में तन-मन से चिकित्सा सेवा करने वाले डॉक्टर्स, नर्सेज तथा अन्य कर्मचारियों की हौसला अफजाई करते हुए कहा कि स्वयं की सुरक्षा का पूरी तरह से ख्याल रखते हुए कोरोना संक्रमितों की सेवा करें।

के.डी. हॉस्पिटल से कोरोना संक्रमित स्वस्थ होकर अपने-अपने घरों को लौटे। इनमें रेलवे मजिस्ट्रेट अरविंद वर्मा भी शामिल है जिनका आईसीयू में इलाज चल रहा था। उन्होंने के.डी हॉस्पिटल को धन्यवाद देते हुए कहा कि अस्पताल में उनका काफी ख्याल रखा गया कोरोना संक्रमण पर विजय हासिल करने वाले लोगों ने अपनी नई जिन्दगी के लिए आर.के. एज्यूकेशन हब के अध्यक्ष डॉ. रामकिशोर अग्रवाल का भी दिल से आभार माना। इन दिनों के.डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर, मथुरा के डॉक्टर्स, नर्सेज तथा अन्य कर्मचारी दिन-रात कोरोना संक्रमण की चपेट में आए लोगों का जीवन बचाने का प्रयास कर रहे हैं। के.डी. हॉस्पिटल के चिकित्सकों ने गम्भीर वृद्धों और नौनिहालों को भी बचाने में सफलता हासिल की।

अपनी बेहतरीन चिकित्सा व्यवस्थाओं, विशेषज्ञ डाक्टर्स, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ के सेवाभाव से के.डी. हज्ञॅस्पिटल आज हर कोरोना संक्रमित के लिए सबसे सुरक्षित स्थान बन चुका है। के.डी. हॉस्पिटल में भर्ती लोगों को कोरोना महामारी से बचाने में योगदान देने वालों में कोविड इंचार्ज डॉ. गौरव सिंह, मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ. सौरभ सिंघल, डॉ. अम्बरीष, डॉ. विदुषी, डॉ. दीपक, डॉ. मोहर सिंह, डॉ. ऋषभ एवं नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ शामिल है।