डायबिटीज, मोटापा, कैंसर जैसी इन 6 बीमारियों से बचाता है यह सस्ता फल

स्वाद में खट्टा-मीठा आलूबुखारा गर्मियों में आने वाला मौसमी फल है। टमाटर की तरह दिखने वाला लाल या महरून रंग का यह फल स्वाद में खट्टा- मीठा लगता है। इसमें बॉडी के लिए जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसमें फाइबर, मिनरल्स और विटामिन भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।  इसके लावा यह पोटेशियम, विटामिन ए और विटामिन का भी बेहतर स्रोत है। इंग्लिश में इसे प्लम (plum) के नाम से जाना जाता है। इसे ताजा या फिर सुखाकर भी खाया जाता है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट की मात्रा कई सारी बीमारियों जैसे ऑस्टियोपोरोसिस, हाई ब्‍लड़ प्रेशर, स्‍ट्रोक और आंखों से जुड़ी समस्याओं से बचाने में सहायक है और यह शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ाता है। चलिए जानते हैं कि इसे खाने से आपको क्या-क्या फायदे होते हैं।

1) वजन होता है कम

यूनिवर्सिटी इंस्‍टीट्यूट ऑफ साइकोलॉजी हेल्‍थ एंड सोसायटी द्वारा किए गए एक ताजा अध्‍ययन में पाया कि वजन और मोटापे से ग्रस्‍त लोगों ने 12 हफ्ते तक रोजाना सूखे प्‍लम खाकर लगभग 2 किलो वजन कम कर लिया था। प्‍लम ऊर्जा का बेहतर स्‍त्रोत हैं। ये देरी से पचते हैं और लंबे समय तक भूख नहीं लगने देते। ये घुलनशील फाइबर का अच्‍छा स्‍त्रोत हैं, जिससे आपको वजन कम करने में मदद मिलती है।

2) हाइपरटेंशन का खतरा होता है कम

इसमें मौजूद हाई पोटेशियम से ब्‍लड प्रेशर रेगुलेट करने में मदद मिलती है। सौ ग्राम सूखे प्‍लम में 745 मिलिग्राम पोटेशियम पाया जाता है। अहमद टी और उनके सहयोगियों ने अपने एक अध्‍ययन में पाया कि सूखे प्‍लम को भिगोकर उसकी केवल एक खुराक खाने वाले मरीजों को ब्‍लड प्रेशर नियंत्रित करने में मदद मिली थी।

3) हेपेटाइटिस के इलाज में सहायक

प्‍लम में हाई फाइबर होने की वजह से ये लीवर डिसऑर्डर के इलाज में भी सहायक हो सकता है। लीवर सेल्‍स डैमेज होने की वजह से लीवर एंजाइम का लेवल बढ़े लोगों पर एक अध्‍ययन किया गया। इन लोगों को तीन सूखे प्‍लम दिए, जिन्‍हें रातभर पानी में भिगोकर रखा गया था। आठ हफ्ते बाद ये परिणाम देखने को मिला कि इन लोगों को लीवर की बीमारियों में फायदा हो रहा था।

4) पाचन को रखता है दुरुस्त

सूखे प्‍लम कब्‍ज और खराब पाचन से पीड़ित लोगों के लिए एक बेहतर ऑप्‍शन है। इतना ही नहीं ये बड़ी आंत में अच्छे बैक्‍टीरिया के विकास को बढ़ावा देकर पाचन में सहायक है।

5) ऑस्टीआपरोसिस से बचाने में सहायक

सूखे प्‍लम बोरान का बेहतर स्‍त्रोत है जिससे हड्डियों के घनत्‍व में सुधार में मदद मिलती है। नेचुरल मेडिसीन जर्नल में प्रकाशित एक अध्‍ययन में पाया गया कि सूखे प्‍लम खाने से पुर बोन मिनरल डेनसिटी के रोगियों में बोन टर्नोवर मार्कर के सीरम का लेवल कम हो गया था।

6) दिल की सेहत के लिए बेहतर

सूखे प्‍लम धमनियों को खत्‍म कर हार्ट डिजीज़ से बचाने में सहायक हैं। इसके अलावा हाई फाइबर होने की वजह से भी ये हार्ट डिजीज़ से बचाने में मददगार हैं। एक अध्‍ययन के अनुसार, हाई फाइबर के सेवन से कोरोनरी हार्ट डिजीज़ का खतरा 12 फीसदी और कार्डीओवैस्क्यलर डिजीज़ का खतरा 11 फीसदी तक कम किया जा सकता है।