फरार आरोपी का दावा, गिरफ्तारी से बचने को कुंद्रा ने दी थी 25 लाख की रिश्‍वत

मुंबई। राज कुंद्रा पोर्नोग्राफी केस में एक फरार आरोपी के दावे ने अब पुलिस महकमे पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। राज कुंद्रा को बीते सोमवार को देर रात 11 बजे गिरफ्तार किया। इसके बाद उन्‍हें 23 जुलाई तक किला कोर्ट ने पुलिस रिमांड में भेज दिया है। पॉर्न फिल्‍म मामले में फरार आरोपी यश ठाकुर ने दावा किया है कि पुलिस पहले ही राज कुंद्रा को गिरफ्तार कर सकती थी लेकिन इससे बचने के लिए उन्‍होंने क्राइम ब्रांच के अध‍िकारी को 25 लाख रुपये घूस दिए। यश ठाकुर का दावा है कि उनसे भी पुलिस ने रिश्‍वत मांगी थी।
‘एंटी करप्‍शन ब्‍यूरो में की थी श‍िकायत’
यश ठाकुर का दावा है कि उन्‍होंने इस बाबत इसी साल मार्च महीने में महाराष्ट्र एंटी करप्शन ब्यूरो को ईमेल लिखकर शिकायत की थी। यश ठाकुर का दावा है कि क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने राज कुंद्रा से 25 लाख रुपए घूस लिए हैं और उनसे भी रिश्‍वत मांगी गई। एंटी करप्शन ब्यूरो ( ACB) ने इस ईमेल को अप्रैल महीने में मुंबई पुलिस कमिशनर को फॉरवर्ड किया था और मामले की जांच करने के लिए कहा था। दिलचस्‍प है कि यश ठाकुर पर पॉर्न फिल्‍म मामले में केस दर्ज है और वह फरार है।
Fliz Movies का मालिक है यश ठाकुर!
शिकायतकर्ता यश ठाकुर एक यूएस बेस्ड फर्म का मालिक बताया जाता है। वह Fliz Movies का मालिक है, जिसके नाम से मॉडल्‍स और ऐक्‍ट्रेसेस से वेब सीरीज और शो के नाम पर कॉन्‍ट्रैक्‍ट साइन करवाया जाता था। इस फर्म का नाम पहले Neufliks था। यश ठाकुर पर आरोप है जो राज कुंद्रा की कंपनी जो पॉर्न फिल्‍में बनाती थीं, वो कथित तौर पर यश ठाकुर की कंपनी की वेबसाइट पर अपलोड की जाती थीं। क्राइम ब्रांच के कार्यवाही करते हुए यश ठाकुर के अकाउंट्स से 4.5 करोड़ रुपये सीज किए थे।
यश ठाकुर के ख‍िलाफ 2020 में दर्ज हुआ केस
पोर्नोग्राफी केस में क्राइम ब्रांच ने राज कुंद्रा और उनके आईटी हेड रायन थार्प सहित 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें सबसे पहली गिरफ्तारी फरवरी महीने में हुई थी, जब मड आइलैंड के एक बंगले पर छापेमारी की गई थी। तब वहां से 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। क्राइम ब्रांच ने गहना वशिष्‍ठ की गिरफ्तारी के बाद किला कोर्ट में गहना और अन्य आरोपियों की जो रिमांड अप्लीकेशन सौंपी थी, उसमें यश ठाकुर का नाम है। यश ठाकुर के खिलाफ मध्य प्रदेश के माधवगंज पुलिस स्टेशन में साल 2020 में आईपीसी के सेक्शन 354 (डी), 341, 294 और 506 के तहत एफआईआर दर्ज हुई है।
आरोप-पॉर्न फिल्‍में बनाता था यश ठाकुर
इस केस में सूरत से गिरफ्तार तनवीर हाशमी नाम के आरोपी ने यश ठाकुर का नाम लिया था। उसने बताया था कि वह यश ठाकुर के लिए ही पॉर्न फिल्म बनाता था। यश ठाकुर के अपने OTT ऐप्स हैं। गहना वशिष्ठ ने भी बताया कि वह इस यश ठाकुर से करीब दो साल से संपर्क में थीं लेकिन वह कभी उनसे मिली नहीं। बताया जाता है कि यश ठाकुर ही पॉर्न फिल्मों की शूटिंग मुंबई में मड आइलैंड, गुजरात में सूरत शहर और महाराष्ट्र के लोनावाला में करवाता था।
ऑनलाइन ट्रांजेक्‍शन से ट्रेल करने की कोश‍िश
यश ठाकुर किसी फिल्म के लिए अडवांस में 50 प्रतिशत रकम सामने वाले के अकाउंट में ट्रांसफर कर देता था। बाकी 50 प्रतिशत पेमेंट पॉर्न विडियो उस तक पहुंचते ही सामने वाले को मिल जाते थे। यश ठाकुर अपना सारा पेमेंट ऑनलाइन करता था, कैश में नहीं। इसलिए पुलिस ऑनलाइन ट्रांजेक्शन ट्रेल से ही उसे लोकेट करने की कोशिश कर रही है। जांच अधिकारियों को यह भी शक है कि इस यश ठाकुर का असली नाम कुछ और है।
-एजेंसियां