कैप्टन बोले, सार्वजनिक माफी के बिना वह सिद्धू से मुलाकात नहीं करेंगे

चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस का विवाद अभी भी थमा नहीं है। सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और निवनियुक्त कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के बीच तलवारें अभी भी खींची हुई हैं। सिद्धू को लेकर कैप्टन अभी भी अपने रुख पर कायम हैं और स्पष्ट कर दिया है कि बिना सार्वजनिक माफी के वह सिद्धू से मुलाकात नहीं करेंगे। अब उनके अगले कदम के कयास लगाए जा रहे हैं।
पंजाब कांग्रेस की कमान मिलने के बाद भी सिद्धू ने अब तक सीएम से मुलाकात नहीं की है लेकिन कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि उन्होंने सीएम से मुलाकात के लिए वक्त मांगा है। कैप्टन अमरिंदर सिंह के मीडिया अडवाइजर ने इन खबरों का खंडन करते हुए कहा कि सिद्धू ने कोई वक्त नहीं मांगा है।
अमरिंदर के मीडिया अडवाइजर ने किया खंडन
अमरिंदर सिंह के मीडिया अडवाइजर रवीन ठुकराल ने 24 मिनट के अंतराल में दो ट्वीट किए। इसमें उन्होंने एक ही बात लिखी लेकिन कैप्टन की दो अलग तस्वीरों के साथ। इन दोनों तस्वीरों में कैप्टन के तेवर भी बदले दिख रहे हैं।
सबसे पहले बात ट्वीट की जिसमें लिखा है, ‘सिद्धू के कैप्टन अमरिंदर से मुलाकात के लिए वक्त मांगने की बात पूरी तरह से गलत है। अभी तक कोई वक्त नहीं मांगा गया है। रवीन ठुकराल ने आगे लिखा, रुख में कोई बदलाव नहीं… सीएम तब तक सिद्धू से नहीं मिलेंगे जब तक कि वह सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ अपमानजनक निजी हमलों के लिए माफी नहीं मांगते।’
कैप्टन की तस्वीर कुछ इशारा कर रही
रवीन ठुकराल ने कैप्टन के इसी कथन के हवाले से दो ट्वीट किए हैं। दोनों तस्वीरों में कैप्टन के तेवर अलग हैं। पहले वाले ट्वीट में सहज दिख रहे हैं तो दूसरे ट्वीट में उनकी तस्वीर कुछ इशारा कर रही है। यह तस्वीर बता रही है कि अब अगला कदम अमरिंदर सिंह का होगा।
सिद्धू की कांग्रेस नेताओं से मुलाकात
उधर, प्रदेश अध्यक्ष की कमान मिलने के बाद सिद्धू चंडीगढ़ से अमृतसर तक कांग्रेस नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं और इसके वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रहे हैं। आज उन्होंने अपनी मंगलवार की यात्रा का वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा, ‘बदलाव की हवा… लोगों की, लोगों के द्वारा और लोगों के लिए, चंडीगढ़ से अमृतसर, 20 जुलाई 2021।’
इसलिए माफी नहीं मांग रहे सिद्धू!
सिद्धू ने पिछले कई महीनों से कैप्टन पर खुलकर हमला किया था। उन्होंने अपने ट्वीट में बेअदबी मामला उठाते हुए मुख्यमंत्री पर तीखे वार किए थे और बादल परिवार के साथ मिलीभगत का आरोप लगाया। सिद्धू ने न ही अपने ये ट्वीट डिलीट किए हैं और न ही सीएम से माफी मांगी है। दरअसल, सिद्धू खेमे का मानना है कि अगर वह ऐसा करते हैं तो इससे उनके आरोप गलत साबित होंगे और छवि को नुकसान होगा।
‘आप’ को पंजाब में मिल गई सजी सजाई थाली
पंजाब में कैप्टन और सिद्धू के बीच की लड़ाई से विपक्षी दलों को मौका मिल गया है। कुछ राजनीतिक एक्सपर्ट का मानना है कि पंजाब कांग्रेस में दो नेताओं की तनातनी से विपक्ष खासकर आम आदमी पार्टी को यहां चुनाव से पहले सजी सजाई थाली मिल गई है। विशेषज्ञों का कहना है कि कैप्टन और सिद्धू आपस में ही लड़ते रहेंगे तो पंजाब कांग्रेस का संकट और गहरा होगा और इसका सीधा फायदा ‘आप’ को पहुंचेगा जो अगले चुनाव के लिए नजरें जमाए बैठी है।
-एजेंसियां