महाराष्‍ट्र: कांग्रेस के प्रदेश अध्‍यक्ष ने कहा, पवार के हाथ में है उद्धव सरकार का रिमोट

कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के बीच तकरार लगातार बढ़ता जा रहा है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने एक बार फिर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) चीफ शरद पवार को लेकर विवादित टिप्पणी की है। गुरुवार को एक न्यूज़ चैनल से बातचीत के दौरान पटोले ने शरद पवार को महाविकास अघाड़ी सरकार का रिमोट कंट्रोल बता दिया।
पटोले ने कहा, ‘हम किसी बड़े नेता के खिलाफ टिप्पणी नहीं करते हैं, किसी को भी हमारे बारे में बयान देने से पहले अपनी पार्टी को देखने की जरूरत है।’
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले के इस बयान के बाद एक बार फिर राजनीतिक गलियारों में कांग्रेस और एनसीपी को लेकर चर्चा शुरू हो गई है। हालांकि, इससे पहले भी पटोले के बयान पर शरद पवार, नवाब मलिक और संजय राउत ऐसी चर्चाओं को खारिज कर चुके हैं।
पवार ने पटोले को कहा था ‘छोटा आदमी’
इसके बाद नाना पटोले का एक वीडियो सामने आया था, जिसमें वे कहते हुए नजर आ रहे थे कि मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री मुझ पर नजर बनाए हुए हैं। इसी कार्यक्रम में नाना ने पार्टी कार्यकर्ताओं से राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता अजित पवार के स्थान पर ‘अपने आदमी’ को पुणे का प्रभारी मंत्री बनाने की बात कही थी।
इस पर एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने रविवार को कहा था कि वह ‘छोटे लोगो’ की बातों पर प्रतिक्रिया नहीं देते, अगर सोनिया गांधी कुछ कहती हैं तो वह बोलेंगे। हालांकि, जब विवाद खड़ा हुआ तो नाना पटोले सामने आए और कहा कि मेरे बयान को गलत ढंग से पेश किया गया।
बाला साहब को भी कहा जाता था रिमोट कंट्रोल
बता दें कि रिमोट कंट्रोल शब्द का इस्तेमाल बालासाहेब ठाकरे के लिए भी किया जाता था। यह कहा जाता था कि शिवसेना और बीजेपी के गठबंधन वाली सरकार बाला साहब ठाकरे की सलाह पर काम करती थी। हालांकि, बाला साहब अपनी कई सभाओं में इसका जवाब भी देते थे। नाना ने उसी शब्द को अब शरद पवार के साथ जोड़ा है।
पटोले अपने दम पर चुनाव लड़ने की बात कह चुके हैं
नाना पटोले ने कुछ दिन पहले अकेले, अपने दम पर चुनाव लड़ने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि 2024 में कांग्रेस पार्टी अपने दम पर महाराष्ट्र में अपनी सत्ता लाएगी। इसके बाद महाविकास अघाड़ी से कांग्रेस के अलग होकर चुनाव लड़ने की चर्चा शुरू हो गई थी।
इस पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा था कि सभी को अपनी पार्टी का विस्तार करने का अधिकार है। इसलिए नाना पटोले ने जो कहा उसमें कुछ भी गलत नहीं है। उनके बयान का मतलब यह नहीं है कि महाविकास अघाड़ी सरकार खतरे में है। महाविकास अघाड़ी सरकार अपना कार्यकाल पूरा करने वाली है।
-एजेंसियां