यूपी: निजी स्कूल एसोसिएशन का न‍िर्णय, नहीं लेंगे एडमिशन फीस

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के निर्णय से पैरेंट्स को बड़ी राहत मिलने जा रही है। निजी स्कूल एडमि‍शन के समय ली जाने वाली एडमिशन फीस अब नहीं लेंगे।

अभी तक स्कूलों में दाखिले के समय और एक क्लास से अगली क्लास में जाने के दौरान अभिभावकों को एडमिशन फीस देनी पड़ती रही है। स्कूल इसे अनिवार्य मानते थे पर बीते वर्ष से कोरोना संक्रमण से उपजे हालात के कारण स्कूलों में ताले पड़ गए। इसके चलते बच्चों का स्कूल जाना बंद हो गया।  कोरोना संक्रमण के कारण अभिभावकों ने अपने बच्चों के दाखिल नहीं कराए।

अब जब नए सत्र 2021-2022 को लेकर स्कूलों ने प्लानिंग की तो हालत और भी विपरीत नज़र आए। दाखिले की स्थिति न के बराबर होने के कारण, स्कूलों को अभिभावकों को बड़ी राहत देने का निर्णय लेना पड़ा। इसकी तहत स्कूलों में इस नए सत्र में नए बच्चों से एडमिशन फीस और पुराने बच्चों के रीएडमिशन फीस को पूरी तरह न लेने का निर्णय लिया है।

अनएडेड प्राइवेट स्कूल का निर्णय

अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल के मुताबिक यह वर्ष सभी के लिए संकट भरा रहा। कई लोगों की नौकरी चली गई तो तमाम लोगों के वेतन आधे हो गए। स्कूल भी समाज की इन बड़ी समस्याओं को अच्छी तरह समझ रहे इसलिए निजी स्कूल एसोसिएशन की तरफ से यह निर्णय लिया गया है कि इस बार एडमिशन फीस नहीं ली जाएगी। यह सभी के लिए लागू होगा।

एडमिशन फीस छोड़ने पर क्या है अनएडेड प्राइवेट स्कूल के तर्क

अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के प्रभारी व प्रेजिडेंट अनिल अग्रवाल ने बताया कि इस बार ज्यादातर स्कूलों में दाखिले की समय सीमा 15 अगस्त तक है, कोरोना के कारण सत्र की शुरुआत में देरी हुई है इसीलिए एडमिशन अभी भी चल रहे हैं। इस निर्णय से उन पैरेंट्स को जरुर लाभ मिलेगा जिन्होंने अभी तक अपने बच्चे का दाखिला नहीं कराया या फिर किसी अन्य कारण स्टूडेंट एडमिशन से वंचित रह गए हो। हालांकि जिन बच्चों से पहले ही एडमिशन फीस वसूल ली गई है उनकी फीस वापसी भी होगी के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह निर्णय संबंधित स्कूल को ही लेना है।
– एजेंसी