Aap की राह पर SP, लगवाए 300 यूनिट फ्री बिजली के वादे वाले पोस्‍टर

अगले साल यूपी में विधानसभा चुनाव है और सभी राजनीतिक दल इसकी तैयारियों में जुटे हैं। नए-नए वादे और नारों की शुरुआत हो चुकी है। लखनऊ में समाजवादी पार्टी कार्यालय के बाहर चुनावी वादों के पोस्टर लगे हैं, जिनकी खूब चर्चा हो रही है। इस पोस्टर में सपा की अगली सरकार प्रदेश में बनने पर 300 यूनिट फ्री बिजली का वादा किया गया है। अब तक इस प्रकार का वादा आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल करते आ रहे हैं। सपा इस चुनावी वादे के साथ जाती है तो बड़ा सवाल होगा कि आम आदमी पार्टी जो पहली बार बड़े पैमाने पर यूपी चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है वो इसका काट कैसे खोजेगी।
केजरीवाल की राह पर समाजवादी पार्टी
फ्री बिजली वो प्रमुख मुद्दा है जिसको हथियार बनाकर आम आदमी पार्टी भारी बहुमत के साथ दिल्ली में सत्ता में है। इस चुनावी वादे का तोड़ राज्य में बीजेपी भी नहीं खोज पाई थी। दिल्ली के इस फॉर्मूले को आम आदमी पार्टी AAP मुखिया अरविंद केजरीवाल दूसरे राज्यों में भी अपनाना चाहते हैं। पंजाब जहां पिछली बार सत्ता में आने से आम आदमी पार्टी रह गई वहां अगले साल चुनाव है। इस राज्य के लिए अरविंद केजरीवाल ने 300 यूनिट फ्री बिजली का वादा किया है। केजरीवाल और उनकी पार्टी ने ऐसा ही वादा उत्तराखंड के लिए भी किया है।
क्या होगा सपा के साथ गठबंधन
पिछले दिनों आप सांसद संजय सिंह की सपा मुखिया अखिलेश यादव से मुलाकात हुई। इस मुलाकात की चर्चा भी खूब हुई साथ ही यह भी अटकलें लगनी शुरू हो गई कि क्या अगला चुनाव सपा के साथ मिलकर लड़ेगी आम आदमी पार्टी। लखनऊ सपा कार्यालय के बाहर लगे पोस्टर में फ्री बिजली का वादा किया गया है और तय माना जा रहा है कि इस वादे को पार्टी चुनावों में प्रमुखता से उठाएगी। आम आदमी पार्टी यदि प्रदेश में अकेले चुनाव में जाती है और यह वादा सपा की ओर से भी किया गया तो आम आदमी पार्टी के लिए मुश्किल होगी।
चुनाव में फ्री बिजली प्रमुख वादा
प्रदेश में अभी पार्टी का जनाधार वैसा नहीं है। हालांकि पिछले कुछ समय से लगातार आम आदमी पार्टी यूपी में पार्टी को विस्तार देने में लगी है। आप सांसद संजय सिंह इसको लेकर काफी सक्रिय भी हैं। सस्ती बिजली का मुद्दा पार्टी प्रमुखता से उठाती है। अब सपा भी उसी राह पर आगे बढ़ती नजर आ रही है। इसका मतलब यह तो तय है कि अगले चुनाव में यह मुद्दा अहम होने जा रहा है।
-एजेंसियां