संकट से निकलने की आखिरी कोशिश में लगा है वोडाफोन आइडिया

वोडाफोन आइडिया संकट से निकलने की एक और कोशिश कर रही है। वह अमेरिकी पीई ग्रुप अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट से पैसे जुटाने के लिए बातचीत कर रही है।
वोडाफोन आइडिया (Vi) अगले तीन महीने के दौरान 22,400 करोड़ रुपये (3 अरब डॉलर) जुटाना चाहती है। कंपनी कर्ज और इक्विटी दोनों तरीकों से यह पैसा जुटाएगी। मामले से जुड़े लोगों ने यह जानकारी दी।
जानकारी देने वाले एक एग्जिक्यूटिव ने बताया कि अपोलो के साथ बातचीत में बिजनेस वैल्यूएशन, फंडिंग की शर्तों और प्रस्तावित डील के स्ट्रक्चर पर चर्चा जारी है। इससे पहले भी Vi कई बार फंड जुटाने की कोशिश कर चुकी है लेकिन उसकी कोशिशें कामयाब नहीं रहीं। एग्जिक्यूटिव ने बताया कि इस बार Vi पूरा पैसा अपोलो ग्लोबल से जुटाना चाहती है।
एग्जिक्यूटिव ने बताया कि अगर वैल्यूएशन (Valuation) और शर्तों को लेकर दोनों पक्षों के बीच सहमति बन जाती है तो वोडाफोन आइडिया बड़ी हिस्सेदारी भी ऑफर कर सकती है। इससे पहले फंड जुटाने की कोशिशों में वोडाफोन आइडिया ने कनवर्टिबल डेट इंस्ट्रूमेंट जारी करने पर जोर दिया था। अभी Vi में इंग्लैंड के वोडाफोन ग्रुप पीएलसी की 44.39 फीसदी और आदित्य बिड़ला समूह की 27.66 फीसदी हिस्सेदारी है।
इस मामले में पूछने पर अपोलो ग्लोबल के प्रवक्ता ने कहा कि उसके पास इस बारे में टिप्पणी करने के लिए कुछ भी नहीं है। वोडाफोन और आदित्य बिड़ला ग्रुप के प्रवक्ता ने भी इस बारे में पूछ गए सवालों के जवाब नहीं दिए।
अपोलो ग्लोबल फंड देने के लिए वोडाफोन आइडिया के सामने कड़ी शर्ते पेश कर सकती है। वह वोडाफोन आइडिया के प्रमोटर से कॉर्पोरेट गारंटी की भी मांग कर सकती है। शुक्रवार को वोडाफोन के शेयर 2.84 फीसदी चढ़कर 9.05 रुपये पर बंद हुए थे।
-एजेंसियां