मेरठ SSP की भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी कार्यवाही, एकसाथ 75 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर

मेरठ। मेरठ भ्रष्टाचार के खिलाफ हल्ला बोल पर एसएसपी ने बुधवार को बड़ी कार्यवाही करते हुए मेरठ पुलिस के इतिहास में भ्रष्टाचार और ठेकेदारी प्रथा के ख‍िलाफ अब तक का सबसे बड़ा एक्शन है। एसएसपी मेरठ प्रभाकर चौधरी ने एक साथ 75 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया है। इनकी जगह पर नए पुलिसकर्मियों को मौका दिया जाएगा। गोपनीय जांच रिपोर्ट, व्हाट्सएप पर मिली शिकायतों की जांच और एसपी-सीओ स्तर के अधिकारियों की रिपोर्ट के आधार पर यह कार्रवाई की गई है। इसके बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मचा हुआ है।

एक सप्ताह गोपनीय जांच चली, जिसमें भ्रष्टाचार में लिप्त संदिग्ध पुलिसकर्मियों के नाम सामने आए है। बताया गया कि उक्त पुलिसकर्मियाें के खिलाफ ओर भी विभागीय कार्रवाई हो सकती है।

एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बुधवार 75 पुलिसकर्मी एक साथ लाइन हाजिर कर दिए। यह पुलिसकर्मी अपराध पर शिकंजा कसने के नाम पर थानों में सालों से जमे हुए थे। बताया कि उक्त पुलिसकर्मी थानेदारों के ‘कमाऊ पूत’ थे।

एसएसपी ने एक सप्ताह पहले एक टीम गठित की, जोकि थानों की गोपनीय जांच कर रही थी। थाने में कौन पुलिसकर्मी क्या करता है, उसकी क्या शिकायत है। इसकी जांच रिपोर्ट पुलिस टीम ने दी। उसके बाद उन पुलिसकर्मियों के नाम लिस्ट में शामिल किये गए।

बताया गया है कि इन पुलिसकर्मियों के लाइन हाजिर होने का पीड़ा सबसे ज्यादा थानेदारों को है। लाइन हाजिर होने की लिस्ट में दो दरोगा, चार थाने की जीप चलाने वाले चालक, 37 कांस्टेबल और 32 हेड कांस्टेबल शामिल है।

एसएसपी के आदेश में लिखा है कि लाइन हाजिर किये पुलिसकर्मियों की सुबह-शाम पुलिस लाइन में गणना होगा। अवकाश, मेडिकल से जुड़ा विवरण रखा जाएगा और प्रशिक्षण की अवधि में जोड़ा नहीं जाएगा। प्रशिक्षण की अवधि में क्या क्या कार्य किये, इसका प्रदर्शन विवरण तैयार करेंगे।

पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण दिया जाता है। इसको लेकर 75 पुलिसकर्मियों को लाइन में भेजा गया है। पुलिस लाइन में तैनात पुलिस वालों को थाने में भेजा जा रहा है। थानों में रहने का एक निर्धारित समय है, जिसमें कई पुलिस वालों का समय पूरा हो गया है।  -प्रभाकर चौधरी, एसएसपी
-एजेंसी