IPL को विस्‍तार देने पर विचार कर रहा है BCCI, 2022 में होंगी 10 टीमें

BCCI अब इंडियन प्रीमियर लीग IPL को बढ़ाने पर विचार कर रहा है। साल 2022 में आठ के स्थान पर कुल 10 टीमें होंगी। इसके साथ ही कुल 94 मैच हो सकते हैं।
आईपीएल प्रबंधन पहले भी 10 टीमों के साथ सीजन करवा चुका है। 2011 में बोर्ड ने ऐसा किया था लेकिन उस फॉर्मेट को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। हालांकि बोर्ड इस बार भी इसके लिए तैयार है। तब सीजन में कुल 94 मैच हुए थे।
हालांकि एक अंग्रेजी अखबार ने बीसीसीआई के एक अधिकारी के हवाले से लिखा है कि ‘हम अभी 94 मैचों के लिए तैयार नहीं हैं।’ अधिकारी ने कहा, ‘हमारे प्रसारणकर्ता इसके लिए तैयार नहीं हैं। विदेशी खिलाड़ियों की उपलब्धता को लेकर भी सवाल है और साथ ही इतने मैचों के लिए समय भी निकालना मुश्किल है। आने वाले वर्षों में हम बड़ी विंडो तलाशने का प्रयास करेंगे।’
94 मैचों के टूर्नामेंट के लिए ढाई महीने का वक्त लगेगा। बिजी शेड्यूल को देखते हुए इसे करवा पाना असंभव नजर आता है। इसके ऊपर आईसीसी का हर साल एक वैश्विक टूर्नामेंट होता है। नतीजा यह है कि बीसीसीआई को 74 मैच के मॉडल पर जाना होगा।
74 मैच के फॉर्मेट में टीमों को दो ग्रुप में बांटा जाएगा। हर ग्रुप में पांच टीमें होंगी। हर टीम लीग स्टेज पर 14 मैच खेलेगी। इसमें चार-चार मैच अपने ग्रुप में होम-अवे तर्ज पर अपने ग्रुप की टीमों के साथ खेले जाएंगे। इसके अलावा दूसरे ग्रुप की एक टीम के साथ होम-अवे मैच होंगे।
बाकी के चार मैच दूसरे ग्रुप की बची हुई टीमों के साथ होम या अवे तर्ज पर होगा। इसका चयन रेन्डम आधार पर होगा।
14 अतिरिक्त मैचों से बीसीसीआई को 800 करोड़ रुपये की अतिरिक्त कमाई होगी। इसमें मीडिया और स्पॉन्सरशिप अधिकार शामिल हैं। 2023 में इस कमाई में और इजाफा होने की संभावाना है जब गवर्निंग बॉडी नए मीडिया अधिकारों के लिए टेंडर जारी करेगी।
अगले महीने बोर्ड नई टीमों के लिए टेंडर आमंत्रित कर सकता है। दिसंबर में होने वाली नीलामी से पहले वह प्रक्रिया को अंतिम रूप देना चाहता है।
हर टीम से बोर्ड को करीब 2000 करोड़ रुपये की कमाई होने का अनुमान है। कोलकाता की कंपनी आरपी गोयनका ग्रुप, जो पहले राइजिंग पुणे सुपरजायंट की मालिक थी इस दौड़ में शामलि है। इसके अलावा अडानी ग्रुप ने भी टीम खरीदने में दिलचस्पी दिखाई है।
-एजेंसियां