अबू आजमी ने कहा, मुजफ्फरनगर में जाटों ने मौलाना से पैर छूकर मांगी थी माफी

समाजवादी पार्टी के नेता अबू आजमी की जाटों को लेकर की गई एक टिप्पणी विवादों के घेरे में है। एसपी नेता आजमी ने एक टीवी इंटरव्यू में कहा, ‘मुजफ्फरनगर के दंगों के वक्त वेस्ट यूपी के लोग हमारे (समाजवादी पार्टी) साथ नहीं आए और बीजेपी के साथ गए। बाद में जाट समाज के लोगों ने स्टेज पर एक मौलाना का पैर छूकर माफी मांगी और कहा कि हमसे गलती हो गई।’ इस टिप्पणी पर बीजेपी के लोगों ने समाजवादी पार्टी की आलोचना की है।
जाटों पर अबू आसिम आजमी की टिप्पणी की आलोचना करते हुए बीजेपी यूपी के चीफ स्वतंत्र देव सिंह ने ट्विटर पर लिखा, ‘जाट समाज के प्रति समाजवादी पार्टी की यह सोच निंदनीय है…जाट समाज ने खेल हो या बॉर्डर हो, हमेशा भारत माता का शीश गर्व से ऊंचा किया है और यदि कभी अपना शीश झुकाया है तो सिर्फ भारत माता के चरणों में ही झुकाया है।’
जाटों की गोलबंदी में जुटीं राजनीतिक पार्टियां
आजमी की ये टिप्पणी ऐसे वक्त में आई है जबकि वेस्ट यूपी में किसानों का आंदोलन चल रहा है। वहीं दूसरी ओर अलग-अलग राजनीतिक पार्टियां प्रभावशाली जाट वोटबैंक को अपने पक्ष में करने में जुटी हैं। समाजवादी पार्टी से लेकर बीजेपी तक सभी पश्चिम यूपी में जाटों को अपने पक्ष में करना चाहते हैं, जिससे कि 2022 के चुनाव में उन दलों को राजनीतिक माइलेज मिल सके।
-एजेंसियां