फजीहत के बाद जुर्माने सहित सिद्धू ने चुकाया 8. 67 लाख का बिजली बिल

चंडीगढ़। पंजाब में अपनी ही पार्टी की सरकार पर हमलावर नवजोत सिंह सिद्धू ने दो दिन की फजीहत के बाद अपने घर का बकाया बिजली बिल जुर्माने के साथ भर दिया। साथ ही रविवार को एक बार फिर प्रदेश में गहराए बिजली संकट को लेकर कैप्टन सरकार को नसीहत दे डाली। बिजली संकट से उबरने का रास्ता सुझाते हुए एक के बाद एक दो ट्वीट किए। उन्होंने लिखा है, ‘घरेलू और औद्योगिक उपभोक्ताओं को सस्ती दरों पर बिजली दी जाए’। एक अन्य ट्वीट में लिखा है, ‘पंजाब सरकार पहले से ही 9 हजार करोड़ की सब्सिडी देती है लेकिन हमें घरेलू और इंडस्ट्रियल उपभोक्ताओं को 10-12 रुपए प्रति यूनिट सरचार्ज के बजाय 3-5 रुपए प्रति यूनिट की दर से बिजली देनी चाहिए। साथ ही 24 घंटे की सप्लाई, कोई पावर कट नहीं और 300 यूनिट तक फ्री में बिजली दी जानी चाहिए।
14-14 घंटे के कट झेल रही है सूबे की जनता
बता दें कि प्रदेश में 14-14 घंटे के बिजली कट लोगों को झेलने पड़ रहे हैं। इस मसले पर तमाम विपक्षी दलों के साथ अपनी पार्टी के विधायक नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्नी नवजोत कौर भी सरकार पर हमला बोल रहे हैं। इसी हल्ले के बीच दो दिन पहले उस वक्त और एक बात ने आग में घी का काम किया। पता चला कि नवजोत सिद्धू का अपना बिजली बिल बकाया है। जब शिअद के अध्यक्ष सुखबीर बादल ने सिद्धू पर हमला बोला तो उनकी पत्नी ने कहा था कि वह इज्जत की रोटी खाते हैं। अब पता चला है कि राजनैतिक टांग खिंचाई के बाद आखिर नवजोत सिद्धू लाइन पर आ गए और उन्होंने जुर्माने के साथ कुल 8 लाख 67 लाख रुपए का बकाया बिजली बिल चुका दिया है। इसकी पुष्टि करते हुए अमृतसर के विधानसभा हलका पूर्वी से विधायक सिद्धू के करीबी और उनके रिहायश स्थित कार्यालय के सचिव राजी महाजन ने बताया कि नवजोत सिंह सिद्धू ने 8,67,540 रुपए बकाया बिजली बिल और जुर्माने की राशि का पावरकॉम को आनलाइन भुगतान कर दिया है। साथ ही उन्होंने 14 मार्च 2021 को बिजली के बिल के रूप में दस लाख रुपए का भुगतान करने संबंधी भी रसीद जारी की।
दूसरी ओर सिद्धू की पत्नी डॉ. नवजोत कौर सिद्धू ने भी एक वीडियो जारी करके यह दावा किया है। ईस्ट डिवीजन के XEN मनोहर सिंह का कहना है कि नवजोत सिद्धू ने वन टाइम सैटलमेंट (OTS) के तहत विभाग की तरफ से केस लगाया हुआ है। इसके तहत सिद्धू के घर में लगे बिजली कनेक्शन का बिल सही करने का मामला विभाग के विचाराधीन है। मनोहर सिंह ने बताया कि शनिवार सुबह उन्हें पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिद्धू के कार्यालय से फोन आया था। उनसे ऑनलाइन बिल का भुगतान करने संबंधी सूचना मांगी गई थी। RTGS के तहत हुई पेमेंट के चलते एक UTR नंबर आता है, जिससे स्पष्ट होता है कि पेमेंट हो गई है। ऑनलाइन पेमेंट होने के लगभग 24 घंटे के बाद ही विभाग के रिकार्ड में उसकी पुष्टि होती है। रविवार को छुट्टी होने के कारण सोमवार को ही स्थिति साफ होगी।
सिद्धू की पत्नी ने कहा, बिल ज्यादा आने पर सुधार के लिए किया था आवेदन
नवजोत सिंह सिद्धू की पत्‍नी डॉ. नवजोत कौर सिद्धू ने पटियाला स्थित अपने घर से वीडियो जारी करके अमृतसर स्थित अपने घर में लगे बिजली के कनेक्शन का बिल भुगतान करने संबंधी दावा किया। उन्होंने कहा कि उन्हें अपने घर लगे बिजली के कनेक्शन पर आ रहे बिजली बिल पर शक था क्योंकि दो सदस्य ही घर में रहते हैं और उनका बिजली का बिल ज्यादा आ रहा है। इसकी जांच करवाने के लिए उन्होंने पावरकॉम को आवेदन दिया था ताकि उनके बिजली के बिल को सही करवाया जा सके।
PPA को रद्द करने के लिए कानून की वकालत
सिद्धू ने इससे पहले पिछली शिअद-भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान हस्ताक्षरित बिजली खरीद समझौतों (PPA) को रद्द करने के लिए एक कानून की भी वकालत की थी. अमृतसर पूर्व के विधायक पंजाब के मुख्यमंत्री के साथ आमने-सामने रहे हैं और अतीत में कई मुद्दों पर उन पर हमला कर चुके हैं। शनिवार को, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा था कि उनकी सरकार जल्द ही पिछले शिअद-भाजपा शासन के दौरान गलत कल्पना PPA का मुकाबला करने के लिए अपनी कानूनी रणनीति की घोषणा करेगी।
सिद्धू ने पहले भी दिया था सुझाव
इससे पहले नवजोत सिंह सिद्धू ने आरोप लगाया था कि पंजाब किसी अन्य राज्य से अधिक पैसे देकर बिजली खरीदता है। सिद्धू ने कहा कि बादल सरकार ने तीन कंपनियों से बिजली खरीद की बात तय की थी। 2020 तक हम इन्हीं से बिजली लेते आ रहे थे लेकिन अब पंजाब को नेशनल ग्रिड से बिजली लेनी चाहिए क्योंकि यहां पर सस्ती बिजली मिलेगी।
-एजेंसियां