हम विश्व शांति के पुजारी, शस्त्र भी धारण करते हैं तो शांति की स्थापना के लिए: रक्षा मंत्री राजनाथ

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह तीन दिनों की लद्दाख यात्रा पर हैं. आज उनकी यात्रा का दूसरा दिन है. लद्दाख में अपनी यात्रा के दूसरे दिन राजनाथ सिंह ने कहा कि पड़ोसी देशों के साथ बातचीत के ज़रिए समाधान निकालने की कोशिश की जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि मंशा साफ़ होनी चाहिए.
बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइज़ेशन के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, “हम न तो किसी को आँख दिखाना चाहते हैं, न किसी का आँख दिखाना मंज़ूर है. हमारी सेना में हर चुनौती का मुंहतोड़ जवाब देने की क्षमता है.”
इस मौक़े पर उन्होंने कहा, “हम विश्व शांति के पुजारी हैं. हम शस्त्र भी धारण करते हैं तो शांति की स्थापना के लिए. भारत ने आज तक किसी भी देश पर न तो आक्रमण किया है न ही किसी भी देश की एक इंच ज़मीन पर हमने क़ब्ज़ा किया है.”
लद्दाख में सेना के जवानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि देश को इस बात का पूरा भरोसा है कि सीमा पर उभरती किसी भी परिस्थिति का सामना करने में हमारे सैनिक सक्षम हैं.
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा सड़क संगठन द्वारा निर्मित 63 बुनियादी परियोजनाओं का उद्घाटन किया.
इस मौक़े उन्होंने कहा,”जिन सड़कों का निर्माण बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइज़ेशन कर रहे हैं वह देश के विकास की गति को बढ़ाने वाले हैं. आज 63 पुल और सड़कों का लोकापर्ण हुआ है. ये बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइज़ेशन कर्मियों की सूझबूझ से हुआ है.”
-BBC