ब्रिटेन ने लगाया क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज प्लेटफॉर्म Binance पर प्रत‍िबंध

नई द‍िल्‍ली। क्रिप्टोकरेंसी को लेकर चीनी बैंक द्वारा नकेल कसने के बाद अब ब्रिटेन की नियामक संस्था ने क्रिप्टोकरेंसी का कारोबार करने वाले डिजिटल प्लेटफॉर्म बिनांसे को प्रतिबंधित कर दिया है.

क्रिप्टोकरेंसी कारोबार के लिए दुनिया के सबसे एक्सचेंज प्लेटफॉम बिनांसे (Binance) को ब्रिटेन की नियामक संस्था ने प्रतिबंधित कर दिया है. ब्रिटेन के वित्तीय संचालन प्राधिकार Financial Conduct Authority (FCA) ने कहा है कि बिनांसे ब्रिटेन में किसी तरह की गतिविधियों को संचालित नहीं करेगा. एफसीए ने ब्रिटेन के लोगों को आगाह भी किया है कि वह इस तरह के निवेश से बचे. एफसीए ने कहा है कि Binance.com जैसे प्लेटफॉर्म पर क्रिप्टोकरेंसी पर उच्च रिटर्न का वादा किया जाता है. ऐसे किसी भी वादे के झांसे में न आए. एफसीए का यह फैसला तब आया है जब दुनिया भर में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर ऊहापोह की स्थिति है.

बिनांसे पर क्रिप्टोकरेंसी की कई सुविधाएं
Binance.com एक ऑनलाइन केंद्रीय एक्सचेंज प्लेटफॉर्म है जहां यूजर को कई तरह के वित्तीय उत्पाद और सेवाओं की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती है. इस वेबसाइट पर किसी भी क्रिप्टोकरेंसी की खरीद-बिक्री, डिजिटल पैमेंट, फीचर, सिक्योरिटी, सेविंग अकाउंट और यहां तक कि उधार लेने की सुविधा भी मिल रही है. विनेंसे ग्रुप का संचालन वर्तमान में Cayman Islands से किया जा रहा है. यह द्वीप कैरेबियन सागर में स्थित एक द्वीप है जो ब्रिटेन की ओवरसीज टैरेटरी है. दूसरी ओर बिनेंसे मार्केट लिमिटेड (Binance Markets Limited) लंदन में स्थित एक संबद्ध फर्म है. इस फर्म की दुनिया भर में कई इकाइयां हैं. इससे पहले Binance Group माल्टा में स्थित था.

किसी भी तरह के लाइसेंस के लिए अधिकृत नहीं
एफसीए ने कहा है कि लिखित अनुमति के बिना Binance Markets Limited (BML) किसी भी तरह की गतिविधियों को संचालित नहीं कर सकता. इस आदेश का पालन करने के लिए बुधवार तक का समय है. यानी बुधवार के बाद बीएमएल किसी तरह की गतिविधियां ब्रिटेन में संचालित नहीं करेगा. एफसीए ने इस बात पर जोर दिया कि Binance Group की कोई भी कंपनी ब्रिटेन में प्राधिकरण, पंजीकरण या लाइसेंस के लिए अधिकृत नहीं होगी. गौरतलब है कि बिनांसे को चीनी नागरिक Changpeng Zhao ने 2017 में तब शुरू किया था जब चीनी सरकार क्रिप्टोकरेंसी पर नकेल कसने के लिए कई तरह के सख्त कदम उठाए थे.
– एजेंसी