RK एज्यूकेशन हब के शैक्षिक संस्थानों में मना विश्व योग दिवस

RK एज्यूकेशन हब के शैक्षिक संस्थानों के. डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर, के. डी. डेंटल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, GL बजाज मथुरा, राजीव एकेडमी, राजीव इंटरनेशनल स्कूल में आज सातवां विश्व य़ोग दिवस मनाया गया। इस अवसर पर ग्रुप के अध्यक्ष डॉ. रामकिशोर अग्रवाल ने अपने संदेश में कहा कि आज के व्यस्त और तनावपूर्ण जीवन में कुछ मिनट की योग क्रिया न केवल सकारात्मक प्रभाव डाल सकती है बल्कि हमें स्वस्थ भी रख सकती है।

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि योग व्यायाम का ऐसा प्रभावशाली प्रकार है, जिसके माध्यम से न केवल शरीर के अंगों बल्कि मन, मस्तिष्क और आत्मा में संतुलन बनाया जा सकता है। यही कारण है कि योग शा‍रीरिक व्याधियों के अलावा मानसिक समस्याओं से भी निजात दिलाने में समर्थ है। योग दिवस पर के. डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में छात्र-छात्राओं को प्राणायाम और विभिन्न आसनों की जानकारी दी गई। संस्थान के प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल ने कहा कि योग क्रिया से हम शरीर के सभी विकारों पर काबू पा सकते हैं। भारत समूची दुनिया का योग गुरु है। हमारे यहां पांच हजार साल पहले से योग के महत्व को स्वीकार्यता मिली हुई है।

के. डी. डेंटल कॉलेज में प्राचार्य डॉ. मनेष लाहौरी ने कहा कि योग भारत की प्राचीन परम्परा का एक अमूल्य उपहार है। यह मन और शरीर की एकता का प्रतीक है। डॉ. लाहौरी ने कहा कि मनुष्य के पास रोगों से बचने का एकमात्र विकल्प योग है। यदि हम अपने व्यस्त जीवन में से एक घण्टा भी प्रतिदिन योगासन व प्राणायाम करें तो हमारा पूरा दिन आनन्दमय होगा और हम आजीवन बीमारियों से बचे रह सकते हैं।

जी. एल. बजाज मथुरा में आनलाइन अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर मनाया गया। इस अवसर पर राष्ट्रीय पॉवर लिफ्टर संजय जोशी ने कहा कि भारतीय धर्म और दर्शन में योग का विशेष महत्व है। योग शरीर और मस्तिष्क के बीच सन्तुलन बनाने में भी मदद करता है। योग के नियमित अभ्यास से हम शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह से स्वस्थ रह सकते हैं। श्री जोशी ने डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. श्रवण कुमार द्वारा पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दिए तथा युवाओं से स्टेरॉयड का सेवन न करने का आह्वान भी किया। संस्थान की निदेशक प्रो. (डॉ.) नीता अवस्थी ने अपने संदेश में कहा कि हम अपनी जीवन शैली में योग को शामिल कर हमेशा निरोगी रह सकते हैं।

राजीव एकेडमी के निदेशक डॉ. अमर कुमार सक्सेना ने कहा कि योग इंसान की सोच, काम करने का तरीका, संयम तथा सद्भाव सिखाता है। डॉ. सक्सेना ने कहा कि योग सिर्फ कसरत नहीं है बल्कि यह हमारी जीवन शैली को बदलकर अच्छी तरह से काम करने में मदद करता है। यदि हमें अपने व्यस्त जीवन में शांत और निरोगी रहना है तो योग को अपनी दिनचर्या में जरूर शामिल करना होगा।
– updarpan.com