सातवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी ने कहा, ऐसे कठिन समय में योग आत्मबल का एक बड़ा माध्यम बना

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को सातवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौक़े पर कहा कि एक तरफ़ पूरा विश्व कोरोना महामारी का मुक़ाबला कर रहा है तो उधर योग उम्मीद की किरण बना हुआ है.
उन्होंने कहा, “दो वर्ष से भारत समेत दुनियाभर में बड़ा सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित न हुआ हो लेकिन योग दिवस के प्रति उत्साह कम नहीं हुआ है. कोरोना के बावजूद इस बार की योग दिवस की थीम ‘योग फॉर वेलनेस’ ने करोड़ों लोगों में उत्साह को और बढ़ाया है.”
“मैं योग दिवस पर यह कामना करता हूं कि हर देश, हर समाज, हर व्यक्ति स्वस्थ हो. सब एक दूसरे की ताक़त बनें. हमारे ऋषियों-मुनियों ने ‘समस्तम योग उच्चते’ की यह परिभाषा दी थी. उन्होंने सुख दुख में समान रहने के लिए योग को संयम का पैरामीटर बनाया था. इस वैश्विक त्रासदी में योग ने इसे साबित करके दिखाया है.”
पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के इस दौर में भारत समेत कितने ही देशों ने संकट का सामना किया है.
“साथियो, दुनिया के अधिकांश देशों के लिए योग दिवस उनका सांस्कृतिक पर्व नहीं है. इतने मुश्किल समय में कई देश इसे आसानी से भूल सकते थे, इसकी उपेक्षा कर सकते थे, लेकिन इसके विपरीत लोगों का उत्साह और बढ़ा है, योग से प्रेम बढ़ा है. पिछले डेढ़ सालों में दुनिया के कोने कोने में लाखों योग साधक बने हैं.”
“योग का पहला प्रयाय, संयम और अनुशासन को कहा गया है. सब उसे अपने जीवन में उतारने का प्रयास कर रहे हैं. कोरोना के अदृश्य वायरस ने दुनिया में जब दस्तक दी थी तब कोई भी देश साधनों से, सामर्थ्य से और मानसिक अवस्था से इसके लिए तैयार नहीं था. हम सभी ने देखा है कि ऐसे कठिन समय में योग आत्मबल का एक बड़ा माध्यम बना.”
“योग ने लोगों में यह भरोसा बनाया कि हम इस बीमारी से लड़ सकते हैं. मैं जब फ्रंटलाइन वॉरियर और डॉक्टरों से बात करता हूं तो वो बताते हैं कि उन्होंने कोरोना से लड़ाई में योग को हथियार बनाया. उन्होंने ख़ुद के लिए और मरीज़ों के लिए योग का इस्तेमाल किया.”
प्रधानमंत्री मोदी ने इस मौक़े पर कहा कि मेडिकल साइंस उपचार के साथ-साथ हीलिंग पर भी बल देता है और योग हीलिंग में उपचारक है.
“योग के इस पहलू पर दुनिया के विशेषज्ञ रिसर्च कर रहे हैं. साथियों कोरोना काल में योग से हमारे शरीर और इम्युनिटी और सकारात्मक प्रभावों पर कई स्टडीज़ हो रही हैं.”
“योग में शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान दिया गया है. जब हम योग करते हैं तो इससे हमें अनुभव होता है कि हमारी विचार शक्ति और आंतरिक सामर्थ्य इतना ज़्यादा है कि दुनिया की कोई भी परेशानी हमें तोड़ नहीं सकती. योग हमें निगेटिविटी से क्रिएटिविटी का रास्ता दिखाता है, अवसाद से उमंग तक ले जाता है.”
पीएम मोदी ने बताया कि दुनिया को विश्व स्वास्थ्य संगठन के ज़रिए योग पर एक मोबाइल एप्लिकेशन की शक्ति मिलने जा रही है जिसमें योग प्रशिक्षण के कई वीडियोज़ कई भाषाओं में उपलब्ध होंगे जो दुनियाभर में इसका प्रसार करने में बड़ी भूमिका निभाएगा.
“योग से सहयोग तक हमें एक नया मार्ग दिखाएगा. इसी शुभकामनाओं के साथ पूरी मानव जाति को बहुत-बहुत शुभकामनाएं.”
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार की रात ट्वीट करके बताया था कि ‘कल 21 जून को हम 7वां योग दिवस मनाएंगे. इस साल की थीम ‘कल्याण के लिए योग’ है जो कि शारीरिक और मानसिक कल्याण के लिए योग करने पर बल देता है. कल सुबह 6.30 बजे योग दिवस कार्यक्रम को संबोधित करूंगा.’
-एजेंसियां