वैक्‍सीन पर मोदी के साथ पवार…क्या उद्धव कर रहे राजनीति?

मुंबई। पूर्व केंद्रीय मंत्री और एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने कहा है कि केंद्र सरकार कोरोना महामारी से निपटने के लिए महाराष्ट्र सरकार के साथ पूरा सहयोग कर रही है। पवार का यह बयान अपने आप में काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि बुधवार को ही स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा था कि राज्य में कोरोना वैक्सीन का स्टॉक सिर्फ 3 दिन के लिए ही बचा है।
क्या कहा था टोपे ने
महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे के मुताबिक राज्य में कोरोना वैक्सीन की भारी कमी है बुधवार को उन्होंने कहा था कि राज्य में सिर्फ 3 दिनों का स्टॉक है ऐसे में केंद्र सरकार को तत्काल कोरोना वैक्सीन की 40 लाख डोज़ मुहैया करवानी चाहिए। टोपे के इस बयान के बाद राज्य के कुछ इलाकों में कोरोना वैक्सीनेशन को भी बंद करना पड़ा था। इसकी वजह यह बताई गई कि इन जगहों पर वैक्सीन खत्म हो चुकी है। लिहाजा वैक्सीन आने तक टीकाकरण का अभियान बंद करना पड़ेगा।
क्या वैक्सीन पर सियासत कर रहे हैं उद्धव ठाकरे
ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या महाराष्ट्र सरकार कोरोना वैक्सीन के मुद्दे पर सियासत कर रही है? महाराष्ट्र सरकार के मुखिया उद्धव ठाकरे वैक्सीन के मुद्दे के जरिए केंद्र सरकार को घेरना चाहते हैं। अब इस मुद्दे खुद शरद पवार ने केंद्र सरकार का समर्थन किया है और कहा है कि केंद्र हर तरह से राज्य की मदद कर रहा है।
बदल रहा है महाराष्ट्र का सियासी समीकरण
शरद पवार का केंद्र सरकार के समर्थन में आए इस बयान के बाद को फिर से महाराष्ट्र में सियासी हलचल शुरू हो चुकी है। फिर से यह कयास लगने शुरू हो चुके हैं कि क्या एनसीपी और बीजेपी की नजदीकियां बढ़ रही हैं? क्या महाराष्ट्र में वाकई बंगाल चुनाव के नतीजों के बाद खेला होगा? इसके पहले गुजरात में शरद पवार और अमित शाह के बीच मुलाकात की खबरें अखबारों की सुर्खियां बनी थीं। तब भी महाराष्ट्र के नए सियासी समीकरण की इबारत गुजरात में लिखे जाने की बात सामने आई थीं।
राउत ने बोला, महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश
वहीं शिवसेना के सांसद और नेता संजय राउत ने कहा है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को महाराष्ट्र के संदर्भ में ऐसी बात नहीं करनी चाहिए थी। महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश केंद्र सरकार की तरफ से की जा रही है। कुछ लोग महाराष्ट्र सरकार को गिराने के लिए पहले दिन से ही सपने देख रहे हैं जो अभी तक पूरा नहीं हुआ है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शिवसेना और महाविकास अघाड़ी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि कोरोना वैक्सीन की सियासत बंद होनी चाहिए।
-एजेंसियां