हरिद्वार कुंभ 2021 के ल‍िए निरंजनी अखाड़ा के रमता पंच पहुंचे कुंभनगरी

हरिद्वार। हरिद्वार कुंभ 2021 के ल‍िए पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के रमता पंच के संत कुंभनगरी हरिद्वार पहुंच गए हैं। गुरुवार को हरिद्वार रेलवे स्टेशन पर व्यापारियों ने जमात का भव्य स्वागत किया। इसके बाद जमात मुख्य बाजार से होते हुए गुजरी। इस दौरान स्थानीय लोगों और व्यापारियों ने जमात पर पुष्पवर्षा की।

एसएमजेएन पीजी कॉलेज छावनी में पहुंचने पर मेलाधिकारी दीपक रावत, आईजी कुम्भ संजय गुंज्याल और अपर मेलाधिकारी हरबीर सिंह ने संतों को फूल माला पहनाकर उनका आशीर्वाद प्राप्त किया। संतों ने छावनी में ठहरने और भोजन को व्यवस्थाएं तैयार करना शुरू कर दिया है। तीन मार्च को एसएमजेएन पीजी कॉलेज से ही पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी की पेशवाई निकलेगी।

गौरतलब है कि शैव संन्यासी संप्रदाय, बैरागी और उदासीन संप्रदाय के अखाड़ों की धर्म ध्वजा और पेशवाई निकाले जाने की तिथियां घोषित हो गई हैं। सभी अखाड़े अपनी-अपनी तैयारियों में जुट गए हैं। पेशवाइयां भव्य निकाली जाएंगी। इनमें हाथी, रथ, घोड़ों के अलावा देवभूूमि की सांस्कृतिक झलक के साथ कोविड बचाव का संदेश दिया जाएगा। हेलीकॉप्टर से फूल बरसाए जाएंगे। हजारों की संख्या में साधु, संत और महापुरुष शामिल होंगे।

पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी की पेशवाई तीन मार्च को एसएमजेएन पीजी कॉलेज गोविंदपुरी से निकलेगी। मायापुर निरंजनी अखाड़ा में प्रवेश करेगी। 27 फरवरी को धर्मध्वजा फहराई जाएगी। श्री पंचदशनाम जूना और श्री पंचदशनाम पंच अग्नि अखाड़ा की पेशवाई चार मार्च को कांगड़ी प्रेमगिरि आश्रम से निकाली जाएगी। जूना अखाड़ा छावनी में प्रवेश करेगी। तीन मार्च को धर्मध्वजा फहराई जाएगी।

श्री पंचदशनाम आह्वान अखाड़ा की पेशवाई पांच मार्च को प्राचीन गुघाल मंदिर से निकाली जाएगी। धर्मध्वजा तीन मार्च को फहराई जाएगी। आनंद अखाड़ा पेशवाई एसएमजेएन पीजी कॉलज से पांच मार्च की निकाली जाएगी। धर्मध्वजा 27 फरवरी को आनंद अखाड़ा में फहराई जाएगी। श्री पंचायती महानिर्वाणी अखाड़ा की पेशवाई आठ मार्च को छावनी से निकलेगी। धर्मध्वजा 28 फरवरी को छावनी परिसर में फहराई जाएगी।

श्री पंचायती बड़ा उदासीन अखाड़ा की पेशवाई पांच अप्रैल को बिशनपुर कटारपुर से निकलेगी। धर्म ध्वजा तीन अप्रैल को फहराई जाएगी। श्री पंचायती बड़ा उदासीन अखाड़ा की चार अप्रैल को दूधाधारी चौक से पेशवाई निकाली जाएगी। दो अप्रैल को धर्म ध्वजा होगी। श्री निर्मल अखाड़ा की पेशवाई नौ अप्रैल एकड़ कला से निकाली जाएगी। निर्मला छावनी में प्रवेश होगी। धर्म ध्वजा दस अप्रैल को फहराई जाएगी।
– updarpan.com