JEE Advanced 2020: देश के 1150 केंद्रों में 27 सितंबर को होगी परीक्षा

नई द‍िल्ली। IIT में एडमिशन के लिए होने वाले JEE एडवांस्ड का आयोजन कर रही IIT दिल्ली ने बताया कि परीक्षा में शामिल होने वाले कुल 97.94 फीसदी कैंडिडेट्स को उनकी पसंद के टॉप 3 परीक्षा केंद्र के आधार पर केंद्र आवंटित किए गए हैं।

85.39% कैंडिडेट्स को मिले पहली पसंद के आधार पर एग्जाम सेंटर, IIT दिल्ली ने आंकड़े जारी कर दी जानकारी

इंस्टीट्यूट के मुताबिक JEE मेन 2020 में क्वालिफाय करने वाले कैंडिडेट्स में से कुल 1.6 लाख ने कैंडिडेट्स ने रजिस्ट्रेशन करवाया है। इन सभी को सेंटर उनके टॉप 3 विकल्पों को ध्यान में रखकर ही सेंटर अलॉट किए गए हैं। इसके अलावा 85.39 फीसदी कैंडिडेट्स ऐसे है, जिन्हें उनकी पहली पसंद के आधार पर परीक्षा केंद्र मिला है।

1150 परीक्षा केंद्रों में होगी परीक्षा

IIT दिल्ली के डायरेक्टर प्रो. वी रामगोपाल राव के मुताबिक, जेईई एडवांस्ड 2020 के चेयरमैन प्रो. सिद्धार्थ पांडेय की अध्यक्षता में प्रो. पराग सिंगला और प्रो. अपूर्वा दास परीक्षा की तैयारियों में लगे हैं। कोरोना के बीच आयोजित हो रही है, परीक्षा के दौरान स्टूडेंट्स की सुरक्षा के मद्देनजर पहली बार 222 शहरों में 1150 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। 27 सितंबर को होने वाली परीक्षा के दौरान कोरोना से बचाव के लिए सभी इंतेजाम किए गए हैं।

1,60,864 स्टूडेंट्स ने कराया रजिस्ट्रेशन

जेईई एडवांस्ड 2020 के लिए रजिस्टर सभी 1,60,864 स्टूडेंट्स में से 1,55,551 ने ही फीस भरी है, जबकि 5,313 छात्रों ने फीस नहीं दी है। परीक्षा से पहले अगर यह कैंडिडेट्स केंद्र में फीस नहीं करते हैं, तो उन्हें बाहर कर दिया जाएगा। साथ ही परीक्षा में शामिल होने के लिए कैंडिडेट्स को कोरोना मुक्त होने का एक सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म भी देना होगा। डिक्लेरेशन फॉर्म नहीं देने पर कैंडिडेट को एडवांस्ड 2020 में अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा।

परीक्षा के दौरान इन बातों का रखें ध्यान

हल्का बुखार, खांसी होने आइसोलेशन रूम में बैठकर परीक्षा देनी होगी।
सोशल डिस्टेंसिंग के चलते एक रूम में सिर्फ 12 स्टूडेंट्स को बैठाया जाएगा।
एक से दूसरे छात्र के बीच छह फीट की दूरी होगी, इसलिए बीच में दो कंप्यूटर खाली रहेंगे।
परीक्षा में दोनों पेपर से पहले बैठने वाले एरिया, कुर्सी, टेबल, मॉनिटर, की-बोड, माउस, डेस्ट आदि से लेकर दरवाजे, हैंडल, व्हीलचेयर(दिव्यांग छात्रों के लिए) आदि को सेनेटाइज किया जाएगा।
पेपर शुरू होने से पहले छात्र को अपने रोल नंबर के सामने हस्ताक्षर करना होगा। हस्ताक्षर से पहले और बाद में हाथ सेनेटाइजर से साफ करवाए जाएंगे।
परीक्षा केंद्र पहुंचते ही सबसे पहले साबुन से हाथ धुलवाएं जाएंगे। बाद में नया मास्क और दस्ताने मिलेंगे।
भीड़ कम करने के मकसद से कैंडिडेट्स को अलग-अलग स्लॉट (30 मिनट) में परीक्षा केंद्र पहुंचना होगा।
परीक्षा केंद्र में कोविड-19 के नियमों का पालन नहीं करने परीक्षा से बाहर कर दिया जाएगा।

– एजेंसी