चिराग के बयान पर BJP MLC का पलटवार, बोलें- सत्ता में बने रहने के लिए नाटक कर रहे है रामविलास पासवान

कुछ महीनो बाद बिहार में चुनाव(bihar assembly election 2020) होने है. चुनाव आयोग ने भी स्पष्ट कर दिया है कि चुनाव अपने समय पर ही संपादीत किये जायेंगे. ऐसे में सूबे में इसकी आहट भी सुनाई देने लगी है. जहाँ एक तरफ एनडीए और महागठबंधन के बिच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है. वहीं, दोनों ही गठबंधन के अपने खेमे में भी सब कुछ ठीक नहीं है. ताजा मामला बिहार NDA से जुड़ा है. जहाँ बीजेपी के विधान पार्षद संजय पासवान ने अपने ही गठबंधन साझेदार राम विलास पासवान और उनकी पार्टी लोजपा पर खुलकर हमला बोला है.
बीजेपी के विधान पार्षद संजय पासवान ने कहा कि रामविलास पासवान सत्ता में बने रहने के लिए नाटक कर रहे हैं. लेकिन बिहार में सरकार बनाने के लिए बीजेपी-जेडीयू को लोजपा की जरूरत नहीं है. वर्ष 2010 में जदयू व भाजपा साथ मिलकर दो तिहाई बहुमत के साथ सरकार बना चुकी है.
एक स्थानीय डिजिटल मीडिया चैनल के संवाददाता से बात करते हुए मीडिया से बात करते हुए बीजेपी के विधान पार्षद संजय पासवान ने कहा कि बिहार चुनाव स्थगित करने को लेकर चिराग पासवान का बयान बेहद आपत्तिजनक है. चिराग पासवान या जो भी नेता चुनाव टालने की मांग कर रहे हैं. उन्हें लोकतंत्र और चुनाव आयोग पर भरोसा नहीं रह गया है. चुनाव आयोग ने जब फैसला लिया है तो उसे मानना ही होगा. बता दें कि बीते दिनों कोरोना काल के दौरान चुनाव टालने को लेकर चिराग पासवान ने तेजश्वी यादव के सुर में सुर मिलाते हुए कहा था कि लोगो का जान खतरे में डाल चुनाव कराना अभी ठीक नहीं होगा.
सत्ता में बने रहने के लिए नाटक कर रहे है पासवान
संजय पासवान यही नहीं रुके, उन्होंने कहा कि ऐसा लग रहा है कि रामविलास पासवान सत्ता में बने रहे के लिए नाटक कर रहे हैं. हालांकि जेडीयू और बीजेपी को रामविलास पासवान की कोई जरूरत नहीं है. बिहार में लोक जनशक्ति पार्टी के बगैर भी जेडीयू-बीजेपी की सरकार बन सकती है.
मालूम हो कि बीजेपी के विधान पार्षद संजय पासवान वाजपेयी सरकार में केंद्र में राज्यमंत्री भी रह चुके हैं. हालाँकि यह पहला मौका नहीं है जब उन्होंने ऐसा बयान दिया है. कुछ महीने पहले उन्होंने नीतीश कुमार के खिलाफ मोर्चा खोला था. उन्होंने कहा था कि नीतीश कुमार को अब आगे मुख्यमंत्री पद का दावेदार नहीं बनाया जाना चाहिये. हालाँकि बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व के इस एलान के साथ ही कि बिहार में नीतीश कुमार ही एनडीए के चेहरा रहेंगे. संजय पासवान को पीछे हटना पड़ा. अब जब लोक जनशक्ति पार्टी के मामले में बीजेपी के बड़े नेता ये दावा कर रहे हैं कि सारा विवाद आपस में बातचीत से सुलझा लिया जायेगा. तब संजय पासवान ने इन बयानों से रामविलास पासवान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. ऐसे में देखने वाली बात यह होगी कि बिहार बीजेपी के सीनियर नेता संजय पासवान के इस बयान पर क्या प्रतिक्रिया देते है.