लद्दाख सीमा पर चीन की सेना का युद्धाभ्‍यास मात्र एक प्रोपेगेंडा

पेइचिंग। चीन से फैले कोरोना संक्रमण के कारण पूरी दुनिया परेशान है लेकिन ड्रैगन अपने गुनाहों पर पर्दा डालने के लिए अलग ही गेम खेल रहा है। भारत से लगती सीमा पर सैन्य झड़पों के बाद चीन ने न केवल अपने सैनिकों को बड़ी संख्या में सीमा के पास तैनात कर दिया है बल्कि तिब्बत मिलिट्री कमांड ने सोमवार देर रात 4,700 मीटर की ऊंचाई पर कठिन हालात में युद्धाभ्यास करने का दावा भी किया। कई सैन्य विशेषज्ञों ने चीन के इस दावे को न केवल भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा करार दिया है, बल्कि इसे उकसावे वाली कार्यवाही बताया है।
शून्य डिग्री तापमान में चीनी सैनिकों के कपड़ों पर सवाल
रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि तिब्बत के पठार पर 4700 मीटर की ऊंचाई पर युद्धाभ्यास के दौरान चीनी सैनिकों को जिस तरह के गर्म कपड़े पहनने चाहिए उन्होंने ऐसा नहीं पहना था। बता दें कि तिब्बत के पठार पर रात का तापमान अधिकतर शून्य के आसपास रहता है। ऐसी स्थिति में बिना ग्लव्स और ऊनी कपड़ों के चीनी सेना के युद्धाभ्यास पर प्रश्नचिन्ह खड़े हो रहे हैं।
प्रोपेगेंडा था युद्धाभ्यास?
खुद PLA के एक अधिकारी ने बताया कि इस इलाके में रातें बहुत ठंडी होती है और ऊंचाई पर ऑक्सीजन कम हो जाती है। ऐसी स्थिति में युद्धाभ्यास करना चीनी प्रोपेगेंडा के अलावा कुछ नहीं है। चीनी सेना के दावों के ऊपर विश्वास करना इसलिए भी मुश्किल है क्योंकि इससे जुड़ी कोई भी वीडियो सार्वजनिक नहीं की गई। बस चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने कुछ तस्वीरें जारी करते हुए दावा किया था कि चीनी सेना ने रात के अंधेर में इस एक्सरसाइज को अंजाम दिया।
युद्ध के लिए अनफिट हैं 20 प्रतिशत चीनी सैनिक
वर्ष 2017 में आई चीनी सेना की रिपोर्ट में कहा गया था कि 20 प्रतिशत चीनी सैनिकों का वजन जरूरत से ज्‍यादा है और वे युद्ध के लिए अनफिट हैं। चीन की सेना ने अपने सैनिकों की आदत में सुधार के लिए कई निर्देश दिए थे। पीएलए ने अपने सैनिकों से ज्‍यादा वीडियो गेम नहीं खेलने, स्‍मार्टफोन का इस्‍तेमाल कम से कम करने और मास्‍टरबेट कम करने के लिए कहा था।
ज्‍यादा मास्‍टरबेट करते हैं चीनी सैनिक
पीएलए ने अपने सैनिकों की बुरी आदतों को देख मजबूरन अपने मुखपत्र पीपल्‍स लिबरेशन डेली में इन सिद्धांतों को प्रकाशित किया था। हालत यहां तक थी कि एक शहर में 57 प्रतिशत सैनिक टेस्‍ट में फेल हो गए थे। चीनी सेना ने कहा कि 8 प्रतिशत सैनिकों के स्क्रोटम में एक वेन काफी लंबी है। उसने दावा किया कि यह ज्‍यादा बैठने की वजह से होता है। पीएलए ने कहा कि यह लंबे समय तक कंप्‍यूटर गेम खेलने, बहुत ज्‍यादा मास्‍टरबेट करने और अभ्‍यास कम करने की वजह से भी हुआ है।
PLA के 25 प्रतिशत सैनिक व‍िजन टेस्‍ट में फेल हुए
चीनी सेना के टेस्‍ट में 25 प्रतिशत सैनिकों के अनफिट होने के पीछे अत्‍यधिक शराब पीना भी शामिल है। इसके अलावा कई सैनिक खराब डाइट की वजह से भी अनफिट साबित हुए। चीनी सेना ने कहा कि 46 प्रतिशत सैनिक व‍िजन टेस्‍ट में फेल हुए। ये लोग अपने फोन पर चिपके रहते हैं। बहुत ज्‍यादा स्‍क्रीन देखने से उनकी नजर कमजोर पड़ गई। पीएलए ने कहा कि सैनिक बहुत ज्‍यादा जंक फूड खाते हैं और इसकी वजह से टेस्‍ट में फेल हुए। गंदा पानी पीने की वजह से उन्‍हें साइनस की भी दिक्‍कत है।
-एजेंसियां

The post लद्दाख सीमा पर चीन की सेना का युद्धाभ्‍यास मात्र एक प्रोपेगेंडा appeared first on updarpan.com.