नए साल में टीवी देखना होगा सस्ता, जानिए वजह

नए साल में एक चीज तो साफ होने लगी है कि आपको टीवी देखने के लिए इस साल की अपेक्षा कम खर्च करना पड़ेगा। जी हां, डीटीएच और केबल टीवी यूजर्स के लिए अच्छी खबर है। नए साल में टीवी देखना अभी के मुकाबले काफी सस्ता होने वाला है। टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया यानी ट्राई टेलिकॉम सेक्टर में कई बदलाव करने के बाद अब ब्रॉडकास्टिंग सेक्टर में भी नए नियम लागू करने के साथ ही पुरानी चार्जेज को रिवाइज करने की तैयारी में है। इसी साल अप्रैल में ट्राई ने डीटीएच और केबल टीवी सब्सक्राइबर्स के लिए नए टैरिफ नियमों को लागू किया था। हालांकि, इससे यूजर्स खुश नहीं हैं, क्योंकि पहले के मुकाबले अब टीवी देखना अब काफी महंगा हो गया है। टैरिफ महंगा होने के पीछे की सबसे बड़ी वजह थी नेटवर्क कपैसिटी फी यानी एनसीएफ में किए गए बदलाव। दूसरी तरफ इस साल रिजर्व बैंक ने रीपो रेट में 1.35 फीसदी की कटौती की जिसके कारण लोन तो सस्ता हुआ लेकिन निवेश पर इंट्रेस्ट रेट भी घट गया। रीपो रेट कट का असर फिक्‍स्ड डिपॉजिट्स पर भी पड़ा है। केवल दिसंबर महीने में कई बैंकों ने एफडी पर ब्याज दरों में 10-50 बेसिस पॉइंट्स की कटौती की है। आर्थिक सुस्ती के बीच यह उम्मीद की जा रही है कि रिजर्व बैंक आने वाले दिनों में रीपो रेट और घटाएगा जिससे एफडी पर इंट्रेस्ट रेट और घट सकता है।

एनबीटी डाट कॉम की रिपोर्ट के अनुसार अब डीटीएच और केबल टीवी सब्सक्राइबर्स को 153 रुपये एनसीएफ देना जरूरी है। एनसीएफ इस बात पर भी निर्भर करता है कि यूजर ने कितने फ्री टू एयर चैनल को सब्सक्राइब किया है। इसके साथ ही अलग से चुने हुए चैनल भी अब पहले से महंगे हो गए हैं। ट्राई अब इन्हीं को कम करने के बारे में सोच रही है ताकि यूजर्स को केबल टीवी या डीटीएच सब्सक्रिप्शन के लिए ज्यादा पैसे न खर्च करने पड़ें।