सिर्फ 2 मिनट में तैयार होता है महिंद्रा का ट्रैक्टर

आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि महिंद्रा के ट्रैक्टर कैसे बनाए जाते हैं। हम आपको महिंद्रा के ज़हीराबाद मैन्युफैक्चरिंग प्लांट का सफर कराएंगे। महिंद्रा का दावा है कि इस प्लांट में सिर्फ 2 मिनट में एक ट्रैक्टर तैयार कर दिया जाता है। इसीलिए आज हम आपको पूरी जानकारी देंगे कि क्या ऐसा सच में होता है या फिर नहीं।

इस प्लांट में ट्रैक्टर बनाने के लिए सबसे पहले इंजन को अस्सेम्ब्ल किया जाता है। इंजन को अस्सेम्ब्ल करते समय लेन में हर इंजीनियर के पास इंजन कुछ समय के रुकता है और उसी समय में उस इंजीनियर को अपना काम पूरा करना होता है। आपको बता दें कि यहां पे 30 HP से 100 HP तक के इंजन बनाए जाते हैं।

महिंद्रा के इस प्लांट में फुल्ली आटोमेटिक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है जिससे काम काफी आसान हो जाता है। इंजन को तैयार करने के बाद उसे टेस्टिंग के लिए भेजा जाता है। साथ ही ट्रांसमिशन को अलग से असेम्ब्ल किया जाता है और बाद में इसे इंजन में फिट कर दिया जाता है।