ट्रोल होकर जलेबी से तौबा कर गए गंभीर, बोले- मेरे खाने से बढ़ता है प्रदूषण तो अब नहीं खाऊंगा

प्रदूषण पर बुलाई गई संसदीय समिति की बैठक से नदारद रहने और इंदौर में जाकर जलेबी खाने को लेकर घिरे बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने सफाई देते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर दिल्ली की अनदेखी करने के आरोप लगाए हैं. उनका कहना है कि पिछले 5 महीने से जब से वह सांसद बने हैं पर्यावरण के लिए के लिए काफी कुछ काम किया है.
दिल्ली की केजरीवाल सरकार के निशाने पर आने के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद गौतम गंभीर ने पलटवार करते हुए कहा, ‘पिछले 5 महीने से मैं सांसद हूं. पर्यावरण के लिए काफी काम किया है. लेकिन यही सवाल मुख्यमंत्री से पूछेंगे कि 5 साल में उन्होंने क्या किया. प्रदूषण कम करने के लिए कुछ भी खास उपकरण खरीदा है.’
पर्यावरण पर बुलाई विशेष बैठक में शामिल नहीं होने के सवाल पर गौतम गंभीर ने कहा, ‘मैं बैठक में इसलिए शामिल नहीं हो सका क्योंकि मेरे पास मेल 11 तारीख को आया था. जबकि मेरा क्रिकेट करार सांसद बनने से पहले का है. यही कारण है कि मुझे वहां जाना पड़ा. मैंने बैठक के बारे में पहले से ही बता दिया था कि मैं नहीं आ पाऊंगा.’
क्रिकेटर से नेता बने गौतम गंभीर का कहना है कि मेरी जलेबी खाने से इतना उनको प्रॉब्लम है. अगर समस्या मेरी जलेबी खाने से है और मेरे जलेबी खाने से प्रदूषण बढ़ता है तो मैं कभी भी जलेबी नहीं खाऊंगा, लेकिन अरविंद केजरीवाल बता दें कि गुजरे 5 साल में उन्होंने क्या काम किया है.
‘बैठक नहीं काम करने के लिए चुना गया’
गौतम गंभीर का कहना है कि मेरे लिए प्राथमिकता राजनीति है. दिल्ली की जनता है और जनता के लिए काम है, लेकिन मेरी राजनीति से पहले ही मेरे लिए काम है जिसके लिए जनता ने मुझको चुना है. मैं बैठक करने के लिए नहीं, बल्कि काम करने के लिए चुना गया हूं. क्या मैं कदम उठाता हूं जनता के लिए क्या काम करता हूं दिल्ली के लिए और जनता के लिए और पर्यावरण कम के लिए, वह सबसे ज्यादा जरूरी है. केजरीवाल ने 5 साल में सिर्फ मीटिंग की है, धरने प्रदर्शन किए हैं, मार्केटिंग की और होर्डिंग लगाई है.
सांसद गौतम गंभीर ने मुख्यमंत्री केजरीवाल पर आरोप लगाया कि उन्होंने दिल्ली की जनता के लिए जल मुफ्त कर दिया है, लेकिन उसमें जहर भी घोल दिया है. मेरी 5 साल और ढाई साल की बच्ची दिल्ली में रहती है. अगर मैं दिल्ली के प्रदूषण के लिए गंभीर नहीं रहूंगा तो और कौन होगा. आम आदमी पार्टी पर्यावरण के लिए गौतम गंभीर पर आरोप लगाने से पहले खुद को देखे कि वो उन्होंने किस तरह का काम किया है. वो हर चीज का क्रेडिट लेते हैं जो आपके एरिया में भी नहीं आता. वो लोग मार्केटिंग बहुत बढ़िया करते हैं. यह मार्केटिंग लंबे समय तक चलेगी नहीं.
ज्यादा मेहनत करते तो दिल्ली पेरिस बन जाती
गौतम गंभीर ने कहा, ‘अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी हरियाणा, पंजाब और गोवा में कहीं नहीं रही. अब आम आदमी पार्टी दिल्ली में भी 3 महीने बाद दिल्ली में भी नहीं रहेगी. मेरे लिए बैठक प्राथमिक रहेगी और बैठक करनी भी चाहिए, लेकिन क्रिकेट करार के चलते ही मैं बैठक में शामिल नहीं हो सका और इसके बारे में पहले ही बता दिया था.’
उन्होंने कहा कि आप जितना मेहनत मेरे खिलाफ पोस्टर लगाने और जलेबी खाने के ऊपर कर रहे थे, इतनी मेहनत अगर आपने दिल्ली के लिए की होती तो लंदन और पेरिस बन जाता.