क्रिकेट में खराब प्रदर्शन का खामियाजा खिलाड़ियों को बाहर बैठकर भुगतना पड़ता है और कई बार तो बाहर होने के बाद खिलाड़ी का टीम में वापसी कर पाना भी मुश्किल हो जाता है। लेकिन आज हम आपको क्रिकेट जगत के 5 ऐसे खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें उनके खराब खेल के बावजूद भी टीम से निकालने की हिम्मत किसी भी कप्तान में नहीं थी।

1. मैथ्यू हेडन

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज मैथ्यू हेडन अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते थे। अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी से वे टीम के लिए ऐसी नींव रख देते थे, तो विपक्षी टीम के लिए रनों की मजबूत चट्टान बनाने में महत्वपूर्व भूमिका निभाती थी। उन्हें टीम से निकालने की हिम्मत उनके कप्तान भी नहीं कर सकते थे।

2. ब्रायन लारा

वेस्टइंडीज के पूर्व महान बल्लेबाज अपने शांत स्वभाव और बेहतरीन बल्लेबाजी के लिए आज भी बल्लेबाजों का प्रेरणा स्रोत हैं। अपने क्रिकेट करियर के दौरान उन्होंने कई बड़े रिकॉर्ड अपने नाम किया। जब तक वे टीम में रहे उन्हें प्लेईंग इलेवन से बाहर करने की हिम्मत किसी भी विंडीज कप्तान में नहीं थी।

3. मुथैया मुरलीधरन

श्रीलंका के इस करिश्माई गेंदबाज को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज कहा जाता है और आंकड़ें इस बात का सबूत भी पेश करते हैं। उनके नाम क्रिकेट जगत में सबसे अधिक विकेट लेने का विश्व रिकॉर्ड दर्ज है। टीम का ये दिग्गज गेंदबाज अकेले ही विपक्षी टीम की बल्लेबाजी की रीढ़ तोड़ने के लिए काफी था। ऐसे में उन्हें टीम से बाहर रखने की हिम्मत भला कौन कप्तान कर सकता था?

4. शेन वॉर्न

ऑस्ट्रेलिया का यह दिग्गज स्पिनर जब भी टीम से बाहर हुआ, किसी अन्य विवाद में रहने के कारण हुआ। लेकिन खुद कप्तान नें उन्हें कभी टीम से बाहर बैठाने की हिम्मत नहीं दिखा पाई। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में से एक वॉर्न किसी भी परिस्थिति में गेंदबाजी कर सकते थे।

5. सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर क्रिकेट जगत का एक ऐसा नाम है, जिसे क्रिकेट जगत का हर खिलाड़ी सम्मान और आदर के साथ लेता है। टीम इंडिया के इस खिलाड़ी को दुनिया का सबसे महान बल्लेबाज कहा जाता है। उन्होंने क्रिकेट जगत में ऐसे कई रिकॉर्ड बनाए हैं, जिनका टूट पाना लगभग नामुमकिन सा लगता है। ऐसे में भले ही सचिन आउट ऑफ फॉर्म ही क्यों न हो, उन्हें टीम से बाहर बैठाने की हिम्मत कोई कप्तान नहीं कर सकता था।