पानी की रैंकिंग में भी सबसे नीचे है दिल्ली, पहले स्थान पर है ये शहर

आज पूरी दुनिया पानी के संकट से जूझ रही है. भारत में भी दिनोंदिन यह समस्या बढ़ती जा रही है. पानी की समस्या की गंभीरता को समझते हुए पीएम नरेंद्र मोदी कई बार देशवासियों को पानी बचाने का आग्रह कर चुके हैं. इसी क्रम में शनिवार को केंद्र सरकार ने पानी की क्वालटी के आधार पर 21 शहरों की रैंकिंग जारी की है.
21 शहरों की इस रैंकिंग में देश की आर्थिक राजधानी मुंबई जहां पहले पायदान पर है, वहीं इन दिनों भयंकर प्रदूषण की मार झेल रही राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली 21वें स्थान पर है. केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान द्वारा जारी इस रैंकिंग में हैदराबाद दूसरे पायदान पर है. भुवनेश्वर, रांची, रायपुर, अमरावती, शिमला, चंडीगढ़, त्रिवेंद्रम और पटना शीर्ष 10 में शामिल हैं. 21 शहरों की सूची में दिल्ली आखिरी स्थान पर है. जयपुर, देहरादून, चेन्नई, कोलकाता का भी पानी दिल्ली से बेहतर है. इस अवसर पर राम विलास पासवान ने कहा कि हमारी कोशिश लोगों को साफ़ पानी देने की है.

दिल्ली समेत देश के अन्य इलाकों से पीने के पानी को लेकर शिकायतें आ रही थीं. हम इस सुधारने का प्रयास कर रहे हैं. राजधानी दिल्ली में लगातार पानी की गुणवत्ता पर प्रश्नचिन्ह लगते रहे हैं. पिछले दिनों भी दिल्ली की पानी की गुणवत्ता एक बड़ा मसला उस समय बन गया था, जब केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने यह कह दिया कि दिल्ली का पानी पीने के लायक नहीं है और उसकी गुणवत्ता बेहद ही खराब है. हालांकि जल शक्ति मंत्रालय द्वारा इस बात को खारिज कर दिया गया था.