अमेरिकी सीनेट में गुरु नानक देव के जन्मदिन को ऐतिहासिक मान्यता देने का प्रस्ताव पारित

संयुक्त राज्य अमेरिका के सीनेट ने सर्वसम्मति से सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव के 550 वें जन्मदिन के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व को मान्यता देते हुए एक प्रस्ताव पारित किया है। गौरतलब है कि अमेरिका के विकास में सिखों का महत्वपूर्ण योगदान है, मुख्य रूप से इसको लेकर ही सीनेट की तरफ से यह प्रस्ताव पारित किया गया है।

यह प्रस्ताव अमेरिका के इंडियाना प्रांत के रिपब्लिकन सीनेटर टोड यंग और मेरीलैंड के डेमोक्रेटिक सीनेटर बेन कार्डिन द्वारा पेश किया गया। यह सिख धर्म पर अपनी तरह का पहला प्रस्ताव है जो अमेरिकी सीनेट ने गुरुवार को पहले सिख गुरु की 550वीं जयंती पर पारित किया।

प्रस्ताव में कहा गया है कि संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनियाभर के सिख समानता, सेवा, और ईश्वर के प्रति समर्पण के मूल्यों और आदर्शों के अनुसार जीते हैं जो उनके सबसे पहले गुरु गुरु नानक देव द्वारा प्रचारित किया गया था। सीनेट के प्रस्ताव में अमेरिका में उनके योगदान के लिए चार प्रतिष्ठित सिखों का भी उल्लेख किया गया है।

संकल्प में शामिल सिखों में दलीप सिंह सौंड शामिल थे, जो पहले एशियाई-अमेरिकी कांग्रेसी थे, जो 1957 में कार्यालय के लिए चुने गए थे। फाइबर ऑप्टिक्स के आविष्कारक डॉ नरिंदर कपानी, संयुक्त राज्य अमेरिका में सबसे बड़ा आडू उत्पादक दीनार सिंह बैंस और प्रतिष्ठित रोजा पार्क्स ट्रेलब्लेजर अवार्ड पाने वाले गुरिंदर सिंह खालसा हैं।