भारतीय सीमा से कितनी दूरी पर है करतारपुर कॉरिडोर, जानिए

करतारपुर साहिब रावी नदी के पास है और डेरा साहिब रेलवे स्‍टेशन से इसकी दूरी महज चार किलोमीटर है| यह गुरुद्वारा भारत-पाकिस्‍तान सीमा से सिर्फ तीन किलोमीटर कि दूरी पर है| गुरुद्वारा भारत की तरफ से साफ नजर आता है| ऐतिहासिक करतापुर कॉरिडोर का उद्घाटन हो चुका है। इसके साथ ही करतारपुर साहिब तक जाने का रास्ता भी खुल  गया। कॉरिडोर में भारत की तरफ से 3.8 किमी लंबी सड़क बनाई गई है। पाकिस्तान की तरफ की यह सड़क चार किमी लंबी है और एक इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट बनी है। भारत की ओर 300 फीट ऊंचा तिरंगा झंडा लगाया गया है, जो 5 किमी दूर तक दिखाई देगा। पाकिस्तान की तरफ से भारत से और देश भर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खास इंतजाम किए गए हैं।

जैसा कि हम सब जानते हैं कि करतारपुर साहिब, सिखों के सबसे पवित्र तीर्थस्थलों में शुमार है। यह सिखों के प्रथम गुरु, गुरु नानक देवजी का निवास स्थान था और यहीं पर वे ज्योति में समा गए थे। बाद में उनकी याद में यहां पर गुरुद्वारा बनाया गया। कॉरिडोर खोले जाने से पहले गुरुद्वारे के दर्शन भारत के लोग दूरबीन से करते थे।

सिख समुदाय के लोग भारत के अलग-अलग प्रांत से भारत-पाक बॉर्डर के पास आते थे और दूरबीन की साहयता से गुरुद्वारे के दर्शन कर खुद को धन्य मानते थे। श्रद्धालुओं की भावनाओं के देखते हुए भारतीय फौज ने यहां दर्शन स्थल बना दिया है, जिससे वह आसानी से दर्शन कर सकें।