वास्तुशास्त्र: आपके घर की समस्या बढ़ा सकते हैं जूते, जानें दूर करने के सरल उपाय

घर एक ऐसी जगह होती हैं, जहां इंसान खुद को सबसे अधिक सुरक्षित महसूस करता हैं। आप बाहर से जितने भी थके हारें हो घर जाकर एक आराम सा महसूस करते हैं। वही पूरे परिवार के साथ हंस खेलकर बिताए पल इंसान को हमेशा ही याद रहते हैं, लेकिन जब कही उसी घर में कलह और तनाव का माहौल बन जाए तो घर की सभी सुख शांति भंग हो जाती हैं। वही वास्तुशस्त्र में घर से जुड़ी इन समस्याओं को दूर करने के लिए कुछ उपाय बताए गए हैं, जिन्हें अपनाकर आप अपने घर में फिर से हंसी खुशी वाला माहौल बना सकते हैं। तो आइए जानते हैं वो उपाय कौन से हैं।
घर के उत्तर पूर्वी हिस्से में पूजा घर होने से वास्तु बिगड़ जाता हैं। पूजा घर के आस-पास कभी भी झाड़ू पोछा नहीं रखना चाहिए। ऐसा करने से आपके जीवन में हमेशा ही दिक्कतें आती रहती हैं। इसके साथ ही प्रतिदिन सुबह सुबह घर में झाड़ू लगाना भी शुभ माना जाता हैं, इसलिए घर की नेगेटिव एनर्जी को दूर करने के लिए हर दिन ये काम जरूर करें। वही सूरज ढलने के बाद कभी भी घर में झाड़ू पोछा नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से वास्तु की दृष्टि से गलत माना जाता हैं वही प्रयास करें कि जूते उतारने का स्थान घर के बाहर आंगन में ही रखें जूतों का रैक हमेशा मेन गेट की पूर्व दिशा में ही रखें। जितना बन सके घर में टूटा फूटा सामान न रखें। घर में टूटा हुआ शीशा और मशीन आदि रखने से घर की सुख समृद्धि पर प्रभाव पड़ता हैं। वही घर के मेन गेट पर शुभ चिन्ह्न अंकित करना चाहिए। इससे घर में सदैव सुख समृद्धि  बनी रहती हैं।