जानिए क्यों मनाया जाता है बाल दिवस

हमारे महान देश भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल की जंयती को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है. अंग्रेजो की गुलामी के बाद आजाद भारत के पंडित नेहरू पहले प्रधानमंत्री बने थे. उन्हें बच्चों से बेहद लगाव था. बच्चों के अधिकार, देखभाल और शिक्षा के बारे में लोगों को पंडित नेहरू ने ही जागरुक किया जाता था और इसलिए उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में चुना गया. उन्होंने विभिन्न शैक्षिक संस्थानों जैसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान की स्थापना की थी.
आपकी जानकारी के लिए बता दे कि बाल दिवस की नींव 1925 में रखी गई थी, जिसके बाद 1953 में दुनिया भर में इसे मान्यता मिली. यूएन ने 20 नवबंर को बाल दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की लेकिन यह अन्य देशों में अलग-अलग दिन मनाया जाता है. कुछ देशों में आज भी 20 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है. 1950 से कई देशों में बाल संरक्षण दिवस (1 जून) पर ही बाल दिवस मनाया जाता है, जिसे वर्ल्ड चिल्ड्रन डे के नाम से जाना जाता है.
हम भारत के पहले प्रधान मंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की जयंती पर बाल दिवस मनाते हैं. वह एक अनुभवी स्वतंत्रता सेनानी और एक प्रमुख राजनीतिज्ञ होने के अलावा, उन्होंने भारत के बच्चों के साथ बहुत करीबी रिश्ता साझा किया. बच्चे भी उनसे प्यार करते थे और उन्हें चाचा नेहरू कहते थे. उनका विचार था कि बच्चे एक राष्ट्र के भविष्य हैं और इसलिए उन्हें अच्छी तरह से पोषण और शिक्षित होना चाहिए. यह उन बच्चों के लिए विचार है जो हम बाल दिवस पर मनाते हैं.