चीन ने फिर की नापाक हरकत, भारत के खिलाफ रची ऐसी साजिश

चीन की सेना लाइन ऑफ़ एक्चुअल कण्ट्रोल (एलएसी) पर एकीकृत मॉडल गांवों का विकास कर रही है जो कि वास्तव में सैनिक छावनी का विस्तार हैं। ये गांव यह सुनिश्चित करने के लिए बसाए जा रहे हैं, ताकि बॉर्डर पर सैन्य और नागरिक आबादी को साथ-साथ बसाया जा सके। हालांकि, ऐसा लग रहा है कि फिलहाल इस इलाके में नागरिक आबादी नहीं रहती और ये अभी तक खाली पड़ा हुआ हैं। 
एक अधिकारी ने बताया है कि, ‘इसे नागरिक और सेना दोनों उपयोग कर सकते हैं और ऐसा विस्तार की स्थिति में भूमि पर अपने दावे को और मजबूत करने के लिए किया जा रहा है। इन स्थानों पर निगरानी टॉवर बने हुए हैं और ये क्षेत्र चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी की कड़ी निगरानी में हैं। वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार ऐसे लगभग दो दर्जन एकीकृत गांव बसाए गए हैं। इनमें से अधिकतर अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम के सामने ईस्टर्न सेक्टर में हैं।

सेना के सूत्रों ने कहा है कि, ‘यह अपेक्षाकृत एक नई अवधारणा है, किन्तु अभी यह स्पष्ट नहीं है कि ऐसा करने के पीछे क्या विचार है क्योंकि ये गांव नियंत्रण रेखा के पास हैं और विजुअल रेंज में आते हैं।’ हालांकि, नियंत्रण रेखा पर भारतीय बॉर्डर के पास लोगों को बसाने की तो कोई योजना नहीं है, किन्तु भारत इनमें से कुछ क्षेत्रों को पर्यटकों के लिए खोल रहा है।