आरबीआई Deputy Governor पद के ल‍िए 10 नाम

नई द‍िल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) का Deputy Governor बनने की अंतिम दौड़ में 10 लोग शामिल हैं। बीते हफ्ते इन लोगों ने इंटरव्यू दिया है। अगस्त में विरल आचार्य के Deputy Governor इस्तीफा देने के बाद से केंद्रीय बैंक में डिप्टी गवर्नर का यह पद खाली है। विरल आरबीआई के मौद्रिक नीति विभाग के प्रमुख थे।

बताया जाता है कि फाइनेंशियल सेक्टर रेगुलेटरी अप्वाइंटमेंट सर्च कमेटी (FSRASC) ने यह इंटरव्यू लिया। नियुक्ति पर अंतिम मुहर प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) लगाएगा। सूत्रों के मुताबिक, इंटरव्यू देने वाले लोगों में चेतन घाटे, अरुनिश चावला, मनोज गोविल, क्षत्रपति शिवाजी, संजीव संन्याल, टीवी सोमनाथन, एम पात्रा और प्राची मिश्रा शामिल हैं।

अगस्त से खाली पड़ा है पद
विरल आचार्य ने अगस्त 2019 में अपने पद से इस्तीफा दिया था। तब से लेकर के अभी तक यह पद खाली पड़ा हुआ है। सूत्रों के मुताबिक जिन आठ लोगों को इस पद के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया है, उनके नाम इस प्रकार हैः

चेतन घाटे, प्रोफेसर, भारतीय सांख्यिकी संस्थान
अरुणिश चावला, संयुक्त सचिव, व्यय विभाग
मनोज गोविल,प्रमुख वित्त सचिव
छत्रपति शिवाजी, एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर एडीबी
संजीव सांयल, मुख्य आर्थिक सलाहाकार
टीवी सोमनाथन, अतिरिक्त मुख्य सचिव, तमिलनाडु
माइकल पात्रा, आरबीआई एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर
प्राची मिश्रा, अर्थशास्त्री, गोल्डमैन सॉक्स

घाटे और पात्रा आरबीआई की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में हमेशा सदस्य के नाते भाग लेते हैं और सूत्रों के मुताबिक ये दोनों इस रेस में सबसे आगे चल रहे हैं।

यह लोग हैं कमेटी में शामिल
इस कमेटी में आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास और वित्तीय मामलों के सचिव भी शामिल हैं। FSRASC किसी भी व्यक्ति को इस पद के लिए बिना आवेदन के भी इस पद के लिए संस्तुति कर सकती है। आरबीआई में फिलहाल एन एस विश्वानाथन, बीपी कानूनगो और एमके जैन डिप्टी गवर्नर के पद पर हैं।

विनिवेश की जरूरत
रिजर्व बैंक के पूर्व डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने भारत सरकार को बॉन्ड बाजार में हिस्सेदारी घटाने का सुझाव दिया है। उन्होंने कहा कि मौजूदा हालात में भारत को बड़ी विनिवेश योजना की जरूरत है। साथ ही भूमि, श्रम और कृषि क्षेत्र में तत्काल बड़े सुधार का प्रयास होना चाहिए।

कोलंबिया विश्वविद्यालय में भारतीय अर्थव्यवस्था

अगले पांच वर्ष’ विषय पर चर्चा के दौरान आचार्य ने आर्थिक विकास तेज करने के लिए कुछ सुधारों पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि सबसे पहली सलाह यह है कि सरकार को कुछ घोषित योजनाओं को फिलहाल टाल देना चाहिए।

यह आसान नहीं होगा, लेकिन ऐसे भारी-भरकम प्रोजेक्ट को तर्कसंगत बनाना होगा जिनसे अपेक्षित लाभ नहीं मिल रहा है। ऐसी योजनाएं जिनका राजनीतिक और सामाजिक रूप से कम प्रभाव पड़ेगा, उन्हें हटाकर नई योजनाओं को शामिल करने पर जोर देना होगा। जनवरी 2017 से जुलाई 2019 तक आरबीआई के डिप्टी गवर्नर रहे विरल आचार्य ने कहा कि सरकार को बड़े पैमाने पर अपनी हिस्सेदारी बेचने और विनिवेश पर ध्यान देना चाहिए। साथ ही बांड बाजार से पूंजी जुटाने के बजाए इक्विटी बाजार से धन जुटाने पर जोर देना चाहिए।

– एजेंसी

The post आरबीआई Deputy Governor पद के ल‍िए 10 नाम appeared first on updarpan.com.