4 डिग्री तक बढ़ेगा पारा, मर सकते हैं 15 लाख लोग…

यदि ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन इसी दर से बढ़ता रहा, तो 2050 तक देश का औसत तापमान चार डिग्री तक बढ़ सकता है | इसके कारण देश में सालाना 15 लाख से अधिक लोगों के जीवन को खतरा पैदा होने की आशंका है | 64 प्रतिशत मौतें छह राज्यों उत्तरप्रदेश, बिहार, राजस्थान, आंध्रप्रदेश, मध्यप्रदेश तथा महाराष्ट्र में हो सकती है.

people died साठी इमेज परिणाम

क्लाइमेट इंपैक्ट लैब और यूशिकागो के टाटा सेंटर फॉर डेवलपमेंट ने जीवन तथा अर्थव्यवस्था पर जलवायु परिवर्तन के असर का अध्ययन किया| अध्ययन के परिणाम गुरुवार को नयी दिल्ली में यूशिकागो (यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो) सेंटर में जारी किये गये| रिपोर्ट के मुताबिक, जलवायु परिवर्तन के कारण कुछ दशक बाद 35 डिग्री सेंटीग्रेड से अधिक तापमान वाले बेहद गर्म दिनों की औसत संख्या आठ गुना बढ़कर 42.8 प्रतिशत तक पहुंच जायेगी | 2010 में ऐसे बेहद गर्म दिनों की संख्या 5.10 प्रतिशत थी|

people died साठी इमेज परिणाम

आने वाले साल में देश के 16 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों का औसत तापमान 32 डिग्री से अधिक होगा| अध्ययन के अनुसार, बढ़ते औसत तापमान और बेहद गर्म दिनों की बढ़ती संख्या का असर मृत्यु दर पर पड़ता है| इसके कारण कुछ दशक बाद देश में सालाना 15 लाख से अधिक लोगों की मौत हो सकती है|