ध्यान-योग से भगाएं Stress को दूरः त्रिभुवननाथ दास

मथुरा। आज की भागमभाग भरी जिन्दगी में किसी कार्य में सफलता न मिलने, अपने परिवार के बारे में सोचने, पढ़ाई में सर्वोच्च अंक लाने तथा किसी अन्य कारणों से भी आप मानसिक Stress का शिकार हो सकते हैं। stress का मूल कारण आत्मविश्वास की कमी और अपने आप पर विश्वास न होना है।

आत्मविश्वास की कमी होते ही मानसिक तनाव उत्पन्न हो जाता है लिहाजा मानसिक तनाव से निजात पाने के लिए सबसे पहले अपना आत्मविश्वास बढ़ाएं तथा दिन में कुछ समय ध्यान-योग को अवश्य दें। यह विचार गुरुवार को GL Bajaj Group of Institutions के एमबीए विभाग द्वारा आयोजित कार्यशाला में दक्षिण अफ्रीकी विद्वान त्रिभुवननाथ दास द्वारा छात्र-छात्राओं से व्यक्त किए गए।

श्री त्रिभुवननाथ दास ने छात्र-छात्राओं को बताया कि आप अपनी योग्यता में विश्वास रखें साथ ही मन में कोई घुटन पैदा हो रही हो तो उसे मन तक ही सीमित न रखें। अगर आपके मन में किसी तरह की उथल-पुथल मच रही है तो उसे किसी प्रियजन, विश्वासपात्र मित्र, रिश्तेदार से जरूर शेयर करें, इससे आपका मन हल्का हो जाएगा। आप चाहे कितना भी जरूरी काम कर रहे हों, काम के बीच हर घण्टे के बाद पांच मिनट का ब्रेक जरूर लें। अगर आप काम के बीच में थोड़ा आराम करेंगे तो आपका ध्यान इधर-उधर नहीं जाएगा।

श्री दास ने कहा कि नियमित रूप से कुछ योगाभ्यास करने से मन अच्छा रहता है तथा तनाव से राहत मिलती है। चिन्ता-फिक्र और निराशावादी माहौल से दूर रहने से शांति का अहसास होता है। पैदल घूमना, दौड़ना, तैरना, रस्सी कूदना, डांस करना, एरोबिक एक्सरसाइज जैसे बहुत से विकल्प हैं जिनके द्वारा हम अपनी मानसिक उलझनों पर काबू पा सकते हैं। श्री दास ने कहा कि मानसिक तनाव को दूर करने में संगीत, रोचक टेलीविजन कार्यक्रम या पिक्चर, पत्र-पत्रिकाएं, बागवानी, पेंटिंग आदि कार्य भी काफी सहायक हैं। इनसे कुछ ही समय में मानसिक तनाव से मुक्ति पाने में मदद मिलेगी।

कार्यशाला में विभागाध्यक्ष एमबीए गजल सिंह, प्रो. जीतेन्द्र सिंह, प्रो. विपिन रावत, प्रो. प्रज्ञा द्विवेदी, प्रो. प्रशांत पाठक आदि के साथ छात्र-छात्राएं उपस्थित थे। संस्थान के निदेशक डा. एल.के. त्यागी ने अतिथि विद्वान को स्मृति चिह्न प्रदान कर उनका आभार व्यक्त किया। 

The post ध्यान-योग से भगाएं Stress को दूरः त्रिभुवननाथ दास appeared first on updarpan.com.