भारतीय टीम का तीसरी बार विश्व विजेता बनने का सपना सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों मिली 18 रन की हार से टूट गया. विश्व कप 2019 के पहले सेमीफाइनल में भारतीय टीम को 18 रन से मात मिली. न्यूजीलैंड की टीम ने इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए 239 रन बनाए. जवाब में भारतीय टीम 50वें ओवर में 221 रन पर सिमट गयी. मैट हेनरी को उनके जबरदस्त प्रदर्शन करने के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया.
भारत की तरफ से इस मैच में जडेजा और धोनी ने मिलकर अंतिम ओवर में तेजी से 100 रन की साझेदारी कर भारत के जितने की आस जगाई. लेकिन धोनी और जडेजा के आउट होते ही भारतीय पारी जल्द ही सिमट गयी. जडेजा ने इस मैच में 77 रन जबकि धोनी ने 50 रन की पारी खेली.


भारतीय टीम इस मैच में एक समय जीत के लगभग करीब आ गयी थी. लेकिन दो रन चुराने के चक्कर में धोनी रन आउट होकर अपना विकेट गंवा बैठे. अगर धोनी रन आउट नहीं होते तो मैच का नतीजा भारत के पक्ष में जा सकता है. धोनी के रन आउट होते ही भारत के मैच जीतने की संभावनाएं भी समाप्त हो गयी.


2015 के विश्व कप में भी धोनी कुछ इसी तरह से ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध सेमीफाइनल में रन आउट हुए थे.


धोनी के द्वारा इस तरह रन चुराने के चक्कर में रन आउट होने की गलती की वजह से भारत विश्व कप 2015 में सेमीफाइनल में हारकर बाहर हो गया था. धोनी की इस गलती की वजह से भारत विश्व कप 2015 हार गया था. अब विश्व कप 2019 में भी धोनी की इस गलती (रन आउट) की वजह से भारत हारकर विश्व कप से बाहर हो गया है.