देश की इस मशहूर कार के दीवाने हैं इस देश के एंबेसडर, वजह जान कर होंगे हैरान

वाल्टर जे लिंडनर जर्मनी के भारत में नए राजदूत हैं और हाल ही में उन्होंने यह पदभार संभाला है। लेकिन लिंडर की खासियतें उन्हें सोशल मीडिया की दुनिया से बाहर आम भारतीयों के बीच भी पापुलर बना रही हैं। लिंडर को प्यार है कभी देश की सड़कों और राजनीतिक हस्तियों की शान रही हिन्दुस्तान एंबेसडर से। लिंडर एक ऐसे देश के राजदूत हैं, जो कार इंजीनियरिंग का गढ़ माना जाता है। जहां ऑडी, बीएमडब्ल्यू, मर्सडीज, पोर्शे और फॉक्सवैगन जैसी शानदार लग्जरी कारों का जन्म हुआ।    

Walter J Lindner with Car

लिंडनर की हिन्दुस्तान एंबेसडर कार के साथ आमोखास से लेकर बड़े से बड़े अधिकारी यहां तक कि देश के राजनेता भी फोटो खिंचाना पसंद करते हैं। हिंदुस्तान एंबेसडर और फिएट पदमिनी देश की दो ऐसी कारें हैं जिनकी राइड विदेशी ऑटो एक्सपर्ट भी लेना पसंद करते हैं। वहीं लिंडनर की लाल रंग की अंबेसडर कार पूरी दिल्ली में मशहूर है।

Walter Wiith Red Ambassador

लिंडनर अकसर अपनी कार की फोटोग्राफ सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं. वहीं इस कार के फैन भी अपनी फोटो उनकी कार के साथ डाल कर उन्हें टैग करते रहते हैं। शायद हिन्दुस्तान मोटर्स ने भी कभी लाल रंग की एंबेसडर लांच नहीं की थी, लेकिन लिंडर ने न केवल इस कार को रीस्टोर कराया बल्कि शानदार लाल पेंट भी कराया। वहीं अब लिंडनर इस कार को और शानदार बनाना चाहते हैं और इस बारे में अकसर सुझाव मांगते रहते हैं।

Red Car

वहीं लिंडनर हाल ही में राष्ट्रपति भवन भी गए थे और वो भी अपनी इसी लाल रंग की शानदार कार में। हाल ही में नई सरकार के शपथग्रहण समारोह में लिंडनर अपनी इसी शानदार कार से हिस्सा लेने पहुंचे थे और वहां कारों की भीड़ में जर्मनी का झंडा लगी उनकी कार एकदम जुदा नजर आ रही थी। लिंडनर अपनी इस कार को ‘आंटी एंबी’ कह कर पुकारते हैं। वे कहते भी हैं उन्हें एंबेसडर कार बेहद पसंद है और यकीनन इस कार की बराबरी कोई और कार नहीं कर सकती।

Lindner Outside President House

 

 

 

 

 

 

 

हाल ही में लिंडनर 21 मई को देश के राष्ट्रपति से मिलने पहुंचे थे और अपने औपचारिक दस्तावेज देने आए थे। लेकिन उनकी उपस्थिति ने राष्ट्रपति के साथ देशवासियों का भी दिल जीत लिया। जब वे उतरे तो वहां तैनात अधिकारी भी उनकी इस अदा को लेकर खुश हो गए। राष्ट्रपति भवन में मुलाकात के दौरान उन्होंने कुछ ऐसा बोला कि राष्ट्रपति भी मुस्कुराए बिना नहीं रह सके। उन्होंने दस्तावेज सौंपते वक्त राष्ट्रपति से हिन्दी में बातचीत की, वहीं ओपन एयर प्रेस काफ्रेंस में पत्रकारों के सवालों का जवाब भी हिन्दी में दिया।  
Lindner in Rikshaw
वाल्टर अकसर वाराणसी में साधुओं के साथ अपनी फोटो शेयर करते रहते हैं, वहीं दिल्ली के खारी बावली में रिक्शे में बैठे भी दिखाई दे जाते हैं। वाल्टर जब 21 साल के थे, तो 1977 में वे वाराणसी भी गए थे। उनके पसंदीदा शहरों में श्रीनगर, जयपुर, देहरादून, ऋषिकेश और बनारस हैं। 
Red Ambassador Behind Walter
संगीत से प्यार रखने वाले वाल्टर को भारत बहुत भाता है और वे न केवल यहां का अध्यात्म और संस्कृति बेहद पसंद है बल्कि यहां की भाषा से भी बेहद प्यार करते हैं। भारत आने वाले ज्यादातर डिप्लोमेट्स अपनी कार विदेश से ही आयात करते हैं और महंगी लग्जरी कार में ही बैठना पसंद करते हैं। वहीं सरकार भी भारत में दूतावासों की आयात गाड़ियों पर टेक्स नहीं लगाती है। लेकिन वाल्टर इसके अपवाद हैं।Wallter Amby