खेल मंत्री बनते ही किरण रिजिजू ने सेट किया टारगेट, अब ओलंपिक की तैयारी

भारत के नव नियुक्त खेल मंत्री किरण रिजिजू ने शुक्रवार को कहा कि वह अपने पूर्ववर्ती राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के कामों को ही आगे बढ़ाएंगे. उन्होंने कहा कि निरंतरता और टीम के साथ मिलकर काम करना सफलता के मूलमंत्र हैं.
रिजिजू से पूछा गया कि क्या वह राठौड़ के कामों को ही आगे बढ़ाएंगे, उन्होंने कहा, ‘निरंतरता भी एक शब्द है. पूर्व की चीजों को आगे बढ़ाया जाना चाहिए और अगर नयी चीजें अच्छी हैं तो इसमें उन्हें जोड़ा जाना चाहिए.’
उन्होंने कहा, ‘खेलो इंडिया जिसे प्रधानमंत्री ने शुरू किया था, उसे हमें आगे बढ़ाएंगे. हम आधुनिक खेलों के साथ पारंपरिक खेलों को बढ़ावा देना जारी रखेंगे.’
रिजिजू ने कहा, ‘हमें (मंत्रियों और नौकरशाहों) को एक टीम के रूप में काम करना होगा क्योंकि मिलकर काम करना सफलता के लिए जरूरी है.’ रिजिजू को राठौड़ की जगह खेल मंत्री बनाया गया है. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का देश के युवाओं के लिए काम करने का मौका देने के लिए आभार व्यक्त किया.
उन्होंने खेल एवं युवा कल्याण मंत्रालय का कार्यभार संभालने के बाद कहा, ‘मैं माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त करना चाहूंगा जो उन्होंने मुझे देश के युवाओं के लिए काम करने का यह बेहतरीन मौका दिया है.’
रिजिजू ने कहा, ‘यह महत्वपूर्ण मंत्रालय है जो कि इस देश के युवाओं को प्रेरित कर सकता है. युवा इस देश की ताकत हैं.’
पिछली मोदी सरकार में गृह मंत्रालय में राज्यमंत्री के रूप में काम करने वाले रिजिजू को युवा कल्याण एवं खेल मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार दिया गया है. इसके अलावा वह अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री भी हैं. रिजिजू ने कहा कि उन्हें अपने नए काम को समझने के लिए थोड़ा समय की जरूरत है.
उन्होंने कहा, ‘मैं अभी किसी विशेष बिंदु पर बात नहीं कर सकता क्योंकि मेरी अभी अधिकारियों से बात नहीं हुई है. लेकिन हमारा ध्यान पारंपरिक खेल प्रतियोगिताओं से लेकर राष्ट्रीय खेल, एशियाई खेल और ओलंपिक होंगे. ओलंपिक निश्चित तौर पर हमारा मुख्य लक्ष्य होगा क्योंकि यह खेलों में सर्वोपरि है.’
नए खेल मंत्री ने भारतीय क्रिकेट टीम को आईसीसी विश्व कप के लिए शुभकामनाएं भी दी.