माँ तो माँ होती है, बेटे को टीवी पर शपथ लेते देख आ गए आँखों में आंसू!

आप सभी को पता हो कि बीते कल नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के शपथ ग्रहण समारोह से जुड़े ऐतिहासिक पल के 8000 से ज्यादा देसी-विदेशी मेहमान साक्षी बने. इन सभी में 14 देशों के राष्ट्राध्यक्ष, छह दर्जन से अधिक देशों के राजदूत व उच्चायुक्त और देश भर के साधारण से गणमान्य लोग सभी उपस्थित थे. वहीं आप सभी जानते ही होंगे कि इस बार भी उन्होंने अपने परिजनों को शपथ समारोह में नहीं बुलाया, लेकिन इस पर परिजनों को कोई आपत्ति नहीं है, बल्कि मोदी की बहन बसंती बेन ने कहा कि उनका जीवन राष्ट्र को समर्पित है.
जी हाँ, आप सभी को बता दें कि गुजरात में करीब डेढ़ दशक तक मुख्यमंत्री रहते और पिछले पांच साल से पीएम रहते मोदी ने अपने सरकारी आवास और सरकारी आयोजनों से परिवार के सदस्यों को हमेशा दूर ही रखा और सीएम आवास की तरह ही पीएम आवास में भी मोदी अकेले ही रहते हैं. इसी के साथ पहले कार्यकाल में उनकी मां हीराबेन कुछ दिनों तक लोककल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री आवास में रुकी थीं और खुद पीएम ने इस आशय का खुलासा करते हुए कहा कि ”मेरी व्यस्तता के कारण मां को यहां मन नहीं लगा.”
वहीं पीएम जब भी गुजरात जाते हैं तब अपनी मां और परिजनों से मिलना नहीं भूलते. इसी के साथ आप जानते होंगे कि प्रधानमंत्री मोदी का गुजरात में बड़ा परिवार है और सबसे बड़े भाई सोमनाथ मोदी वडनगर में वृद्धाश्रम चलाते हैं. वहीं अहमदाबाद के घाटलोदिया में रहने वाले दूसरे बड़े भाई अमृत मोदी एक निजी कंपनी में फिटर हैं और छोटे भाई प्रहलाद मोदी की गल्ले की दुकान है. बहन बसंती बेन है. इनका भरापूरा परिवार है. जब पीएम मोदी शपथ ले रहे थे तो उनकी माँ ने उन्हें टीवी पर देखकर ही आशीर्वाद दिया और तालियां बजाई. माँ तो माँ होती है इस बात में कोई दोराय नहीं है.