मोदी मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण से पहले राजस्थान से आई चौंकाने वाली खबर

जयपुर। राजस्थान ने इस बार भी 2014 की तरह नरेन्द्र मोदी को पूरे 25 सांसद दिए हैं। मोदी आज फिर से प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं।
ये कैबिनेट मंत्री की रेस में
मोदी के पहले मंत्रिमंडल में इस बार राजस्थान से चार सांसदों गजेंद्र सिंह शेखावत, राज्यवर्धन सिंह, अर्जुन राम मेघवाल और कैलाश चौधरी को मौका मिलने जा रहा है। इन चार में से एक गजेंद्र सिंह शेखावत या अर्जुन राम मेघवाल को कैबिनेट मंत्री बनाया जा सकता है।
केवल एक सांसद को ही मंत्री बनाया गया
नरेंद्र मोदी जब 2014 में पहली बार प्रधानमंत्री बने थे और 46 सदस्यीय मंत्रिमंडल का पहला गठन हुआ था तो 25 सीटें जीतने के बावजूद भी मात्र एक सांसद को ही मंत्री बनाया गया था और वो भी राज्य मंत्री। श्रीगंगानगर से सांसद निहाल चंद मेघवाल को राज्यमंत्री बनाया गया था और उनको रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय का जिम्मा सौंपा गया था।
पहले मंत्रिमंडल विस्तार में राज्यवर्धन सिंह को मौका मिला
rajyavardhan rathore
पहले मंत्रिमंडल विस्तार में जयपुर ग्रामीण सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और अजमेर सांसद सांवर लाल जाट को मंत्री बनाया गया। इसके बाद अगले विस्तार में सांवरलाल जाट और निहाल चंद मेघवाल को हटा कर बीकानेर सांसद अर्जुन राम मेघवाल, पाली सांसद पीपी चौधरी और नागौर सांसद सीआर चौधरी को मंत्री बनाया गया था।
इसके बाद हुए एक अन्य विस्तार में जोधपुर सांसद गजेन्द्र सिंह शेखावत को मंत्री बनाया गया। यह सभी राज्यमंत्री थे। एक मात्र राज्यवर्धन सिंह को ही राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार का जिम्मा दे रखा था।
एक भी ऐसा मंत्री नहीं रहा, जिसने पूरे 5 साल का कार्यकाल पूरा किया हो
gajendra singh shekhwat
राजस्थान से एक भी ऐसा मंत्री नहीं रहा, जिसने पूरे पांच साल का कार्यकाल पूरा किया हो। मोदी के पांच साल के पीएम के कार्यकाल में राजस्थान से कोई भी कैबिनेट मंत्री नहीं बना।
सभी राज्यमंत्री थे। यहां तक कि राज्यसभा से भी जिन सांसदों को मंत्री बना रखा था, वे भी ज्यादातर राज्यमंत्री ही थे।
एक मात्र वैंकेया नायडू कैबिनेट मंत्री थे, जिनको राजस्थान की राज्यसभा सीट से जिता कर लेकर गए थे, लेकिन वे भी कुछ समय बाद उपराष्ट्रपति बन गए।